Aaj ka Panchang Today? हिंदू धर्म में किसी भी विशेष कार्यक्रम और शुभ कार्य को करने से पहले पंचांग देखा जाता है और बिना पंचांग देखे ही शुभ कार्य शुरू नहीं होते हैं, इसलिए आज भी ज्यादातर लोग आज का पंचांग क्या है, यह देखकर ही अपना काम शुरू करते हैं।

पंचांग का हमारे जीवन में विशेष महत्व है क्योंकि पंचांग से ही हमें पता चलता है कि दिन का कौन सा समय शुभ है और कौन सा समय अशुभ है, जो हम अपने विशेष कार्यों को शुभ समय के अनुसार करते हैं, और अशुभ समय के दौरान उन्हें रोकते हैं।

Today Panchang in Hindi – आज का पंचांग

पंचांग में सूर्योदय-सूर्यास्त, चंद्रोदय-चंद्रमा काल, तिथि, नक्षत्र, मुहूर्त, योग काल, करण, सूर्य-चंद्र राशि, चौघड़िया मुहूर्त दिए गए हैं। इस हिंदी पंचांग में आज के पंचांग के साथ-साथ वर्ष 2021 के प्रत्येक माह का दैनिक पंचांग भी दिया गया है।

Aaj Ka Panchang – हिंदू धर्म में कोई भी विशेष कार्यक्रम और शुभ कार्य करने से पहले पंचांग देखा जाता है और बिना पंचांग देखे ही शुभ कार्य शुरू नहीं होते हैं, इसलिए आज भी ज्यादातर लोग आज का पंचांग क्या है, यह देखकर ही अपना काम करते हैं. चलो करे

Aaj ka Panchang Today

राष्ट्रीय मिट्टी भाद्रपद 22, शक संवत 1943, भाद्रपद शुक्ल, सप्तमी, सोमवार, विक्रम संवत 2078। सौर भाद्रपद माह प्रविष्टि 29, सफर 05, हिजरी 1443 (मुस्लिम) तदनुसार अंग्रेजी तिथि 13 सितंबर 2021 ई. सूर्य दक्षिण, उत्तर दौर, शरद ऋतु है।

राहुकाल प्रातः 07.30 बजे से प्रातः 09.00 बजे तक। सप्तमी तिथि के बाद अपराह्न 03.11 बजे अष्टमी तिथि की शुरुआत। अनुराधा नक्षत्र के बाद ज्येष्ठा नक्षत्र की शुरुआत सुबह 08:24 बजे तक.

प्रीति योग विशकुंभ योग के बाद सुबह 08:49 बजे तक, वनिज करण दोपहर 03:11 बजे के बाद शुरू होता है। चंद्रमा दिन-रात वृश्चिक राशि में गोचर करेगा।

  • सूर्योदय का समय 13 सितंबर: सुबह 06:05 बजे।
  • सूर्यास्त का समय 13 सितंबर: शाम 06.29।

आज का शुभ मुहूर्त 13 सितंबर 2021

अभिजीत मुहूर्त रात 11.52 बजे से दोपहर 12.42 बजे तक। विजय मुहूर्त दोपहर 2:21 बजे से दोपहर 3:10 बजे तक रहेगा। निशीथ काल मध्यरात्रि 11:54 से 12:40 बजे तक। शाम 06:16 से शाम 06:40 बजे तक। अमृत ​​काल रात 10:46 से 12:17 तक रहेगा। सर्वार्थ सिद्धि योग प्रातः 06:05 से प्रातः 08:24 तक।

आज का अशुभ समय है 13 सितंबर 2021

राहुकाल प्रातः 07.30 बजे से प्रातः 09.00 बजे तक। सुबह 10.30 से 12.30 बजे तक यमगंद रहेगा। दोपहर 01:30 से 03.00 बजे तक गुलिक कॉल होगी। दुर्मुहूर्त का समय दोपहर 12:42 बजे से 01.31 बजे तक और उसके बाद 03.10 बजे से 04.04 बजे तक। भद्रा दोपहर 03:10 से 02.09 तक।

पंचांग का क्या महत्व है?

  • पंचांग की सहायता से आप प्रत्येक दिन के शुभ समय और अशुभ समय का पता लगा सकते हैं।
  • आज का पंचांग की तालिका में शुभ मुहूर्त और अशुभ मुहूर्त की जानकारी दी गई है।
  • आपको अपना काम आज का पंचांग देखने के बाद ही करना चाहिए ताकि आपके जीवन में कोई प्रभाव न पड़े।
  • अशुभ समय में काम करने के बजाय इसे कुछ समय के लिए बंद कर देना चाहिए और आज का पंचांग को इसकी जानकारी देता है।
  • आज का पंचांग किसी विशेष कार्यक्रम को करने से पहले देखा जाता है, कोई भी विशेष कार्य करने से पहले आज का पंचांग देखकर ही कार्य करना चाहिए ताकि आपको सफलता मिल सके।

हिंदी कैलेंडर 2021 – हिंदी पंचांग कैलेंडर 2021

हिंदी कैलेंडर 2021 पंचांग, शुभ मुहूर्त, त्यौहार, राशिफल 2021 देखने के लिए सबसे आसान तरीक़ा है। यह हिंदी ऑफ़लाइन कैलेंडर मुफ़्त मोबाइल ऐप की सभी सुविधाएँ बिना इंटरनेट के काम करती हैं।

2021 हिंदू कैलेंडर दुनिया भर में सभी हिंदी भाषी लोगों के लिए ऑफ़लाइन कैलेंडर और मुफ्त राशिफल 2021 कैलेंडर ऐप है। त्योहारों, छुट्टियों, शुभ मुहूर्त और हिंदी पंचांग 2021 की जानकारी जानने के लिए ऐप्स बेहद उपयोगी हैं

हिंदू कैलेंडर मुफ्त में डाउनलोड करें –

सूर्योदय क्या है?

सूर्योदय के समय को सूर्योदय कहा जाता है और पंचांग में आपको इसके समय की जानकारी दी जाती है।

सूर्यास्त क्या है?

सूर्य के अस्त होने और अस्त होने को सूर्यास्त कहा जाता है और पंचांग में आपको इसके समय की जानकारी प्रदान की जाती है और ज्योतिष में सूर्योदय और सूर्यास्त के समय का बहुत महत्व है।

चंद्रोदय क्या है?

चंद्र उदय को चंद्रोदय कहा जाता है और आपको इसके समय की जानकारी पंचांग में दी जाती है।

चंद्रोस्त क्या है?

चन्द्रमा के अस्त होने और छिपने को चन्द्रमा कहा जाता है और पंचांग में आपको उसके समय की जानकारी प्रदान की जाती है और ज्योतिष में चन्द्रोदय और चन्द्रोदय का समय बहुत महत्वपूर्ण होता है।

अमांता महीना क्या है?

हिन्दू पंचांग के अनुसार अमावस्या के दिन समाप्त होने वाला चंद्र मास अमंत मास के नाम से जाना जाता है।

पूर्णिमांत महीना क्या है?

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, जब चंद्र मास पूर्णिमा के दिन समाप्त होता है, तो इसे पूर्णिमांत मास के रूप में जाना जाता है।

सूर्य राशि क्या है?

सूर्य राशि का उपयोग कुंडली की गणना या भविष्यवाणी करने के लिए किया जाता है और ज्योतिष के अनुसार, सूर्य राशि भविष्य को निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

चंद्र राशि क्या है?

चंद्र राशि का उपयोग कुंडली की गणना या अनुमान लगाने के लिए किया जाता है और ज्योतिष के अनुसार चंद्र राशि व्यक्ति के व्यवहार को निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

Mentha Oil Aaj Ka RateGehun Ka Rate Today
Gwar Ka Bhav TodayFlipkart Customer Care

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *