एंटीवायरस क्या हैं – What is Antivirus in Hindi

क्या आप जानते हैं, Antivirus क्या है (What is Antivirus in Hindi) और यह कैसे काम करता है। साथ ही आपको यह भी जानकारी दी जाएगी कि आपके कंप्यूटर और मोबाइल फोन के लिए सबसे अच्छा Antivirus Free और Premium दोनों से बेहतर है।

Computer Software को फ्री-वेयर और मैलवेयर से बचने के लिए एंटीवायरस सॉफ्टवेयर को सिस्टम में इनस्टॉल करके सिस्टम को वायरस फ्री रखने में सहायक है।

वैसे आपने सुना होगा कि वायरस आपके कंप्यूटर को नुकसान पहुंचा सकता है, ऐसे में आपके एंटीवायरस और वायरस के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है, इसलिए हम इस विषय को शुरू से ही बताएंगे और अंत में सुरक्षा टिप्स भी साझा करेंगे। वायरस से बचने के लिए। ताकि आपका सिस्टम वायरस से प्रभावित न हो।

Antivirus क्या हैं पूरी जानकारी हिंदी में

एंटीवायरस या एंटी-वायरस सॉफ़्टवेयर, जिसे कभी-कभी एंटी-मैलवेयर सॉफ़्टवेयर के रूप में संदर्भित किया जाता है, कंप्यूटर सॉफ़्टवेयर है जिसका उपयोग मैलवेयर का पता लगाने, रोकने और हटाने के लिए किया जाता है। एंटीवायरस यह एक प्रोग्राम कोड है। आप यह भी कह सकते हैं कि यह एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जो कंप्यूटर में छिपे हुए सभी वायरस प्रोग्राम को ढूंढता है और उसे कंप्यूटर से हटा देता है।

What is Antivirus in Hindi
What is Antivirus in Hindi

यह भी कहा जा सकता है कि यह कंप्यूटर के लिए सेफगार्ड की तरह काम करता है, जो कंप्यूटर वर्म्स, ट्रोजन हॉर्स जैसे मैलवेयर से बचाता है। एंटीवायरस कंप्यूटर को स्पाईवेयर और एडवेयर से भी बचाता है। अपने कंप्यूटर से इन सभी प्रोग्रामों का पता लगाएँ और उन्हें हटाएँ। कुछ आपकी फाइलों को छोटा कर देता है, फाइलों को गायब कर देता है, जो कंप्यूटर को धीमा कर देता है।

एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर कैसे काम करता है?

एंटीवायरस सॉफ्टवेयर का काम बैकग्राउंड प्रोसेस, कंप्यूटर स्कैनिंग, सर्वर स्कैनिंग और अनजान फाइल्स को स्कैन करना होता है, ताकि अगर कोई वायरस आपके सिस्टम में घुसने की कोशिश करता है तो उसे रोक देता है।

मौजूदा वायरस को सिस्टम से हटाने के लिए उनका पता लगाता है। यदि आप एक अच्छे एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर का उपयोग करते हैं, तो कोई भी वायरस कभी भी आपके सिस्टम में प्रवेश नहीं कर पाएगा।

एक अच्छा एंटीवायरस वह है जो नए और पुराने वायरस को खोजने और उन्हें सिस्टम से हटाने की क्षमता रखता है, एंटीवायरस वास्तविक समय में खतरे का पता लगाने और इसकी संभावित कमजोरियों से सुरक्षा के लिए काम करता है और एंटीवायरस आपके ऑपरेटिंग सिस्टम और सॉफ्टवेयर सिस्टम की सुरक्षा करता है।

एंटीवायरस का क्या फायदे और नुकसान है?

एक अच्छा एंटीवायरस आपको हमेशा नये फाइल्स को स्कैन करने, खतरनाक वेबसाइट पर जाने से रोकने, नये वायरस की जानकारी देने के साथ उससे लड़ने की शमता रखता है, Antivirus में पहले से ही बहुत सारे Virus के Signature (छाप) या Virus की पहचान भरी हुई होती है और जब भी उससे कोई उससे मिलती जुलती फाइल मिल जाती है तो उससे स्कैन करता है.

Antivirus के फायदे

कंप्यूटर वायरस को हटाने के लिए एंटीवायरस एक वरदान से रूप में साबित हुआ है, इसमें कोई शक नहीं की एंटीवायरस के बहुत सारे फायदे है चाहे आपका एंटीवायरस Free हो या Premium, तो चलिए जानते है की एंटीवायरस के फायदे क्या है?

  1. कंप्यूटर को वायरस से सुरक्षित रखने के लिए आपके पास अच्छा एंटीवायरस होना जरुरी है.
  2. एंटीवायरस ऐसी वेबसाइट को खोलने से रोकता है जिससे Malware हो और उससे आपके सिस्टम में वायरस को आने से रोकता है.
  3. आप इन्टरनेट से कुछ भी बिना वायरस के डर से डाउनलोड कर सकते है.
  4. Online Transactionऔर ऑनलाइन पेमेंट करने की प्रकिर्या को सुरक्षित करता है.
  5. आपका कंप्यूटर को Hang होने से रोकता है क्युकी कुछ वायरस आपके सिस्टम Processing Speed को Slow कर देते है जिनको यह हटा देता है.
  6. Computer  ख़राब होने और Hard Disk Corrupt का दर नहीं रहता.
  7. User जब चाहे आपने ऑपरेटिंग सिस्टम को स्कैन कर सकता है.

एंटीवायरस से हमें क्या फायदे होते है या इसके क्या उपयोग है? मुझे उम्मीद है आपको एंटीवायरस के लाभ पता चल गया होगा.

Antivirus के नुकसान

इसमें कोई शक नहीं की एंटीवायरस के बहुत सारे फायदे है चाहे आपका एंटीवायरस Free हो या Premium, तो चलिए जानते है की एंटीवायरस के नुक्सान क्या है? आप सोच रहे होगे की एंटीवायरस का तो कोई नुकसान हो ही नही सकता तो चाहिए इस पर एक नज़र डालते है, हर चीज़ का कोई फायदा है तो उसके कुछ Side-Effects भी जरुर होते है चाहे कितना भी एडवांस क्यों न हो.

  1. Detection Techniques – एंटीवायरस एक ही अल्गोरिद्म पर काम करता है चाहे वो भी एंटीवायरस क्यों न हो, जब मार्किट में नया वायरस आ जाता है तो उससे दुन्धना काफी मुस्किल हो जाता है और अगर आप पुराना version में एंटीवायरस इस्तेमाल करते है तो हानिकारक साबित होगा.
  2. Doesn’t Fully Protect – आप एंटीवायरस इनस्टॉल कर लेते है और उससे पूरी तरह से सेटअप कर लेते है तो इसका मतलब यह नही की आपके सिस्टम में वायरस नहीं आएगा, नये वायरस की पहचान एंटीवायरस नहीं कर पाता अगर कोई एंटीवायरस इन्टरनेट से आने वाले वायरस को रोक रहा है तो उससे उसपर आप ऐसे निर्भर नही रह सकते की वायरस आएगा ही नहीं, वायरस किसी दुसरे जरिये से भी प्रवेश कर सकता है.
  3. Slows Down PC – वायरस को निकलने के लिए आपके कंप्यूटर की बहुत सारी फाइल्स को प्रोसेस करके उनसे वायरस ढूंडता है ऐसे में आप किसी फोल्डर को खोलते है या कोई नई फाइल को कंप्यूटर में डाउनलोड करते है तो उसकी वो प्रोसेसिंग कंप्यूटर को धीमा कर सकती है.
  4. Free or Premium Antivirus – फ्री और प्रीमियम एंटीवायरस का चुनाव कर लेने के बाद आपको चुनाव करना जरुरी है की कोनसा एंटीवायरस आपकी अच्छे से सुरक्षा करेगा, कभी-कभी गलत एंटीवायरस के उपयोग करने से आपकी सिक्यूरिटी मजबूत नहीं रहती और आपके कंप्यूटर में वायरस प्रवेश कर जाता है.

मुझे उम्मीद है आपको एंटीवायरस क्या है (What is Antivirus in Hindi)? के बारे में यह जानकारी पसंद आई होगी और अगर आपका कोई भी इससे जुडा सवाल है तो मुझसे आप कमेन्ट करके भी पूछ  सकते है, धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

One Comment

  1. Raushan Khuswaha says:

    Wow aapne bhut acchi jaankari likhi hai