Home » Lifestyle » अपनी जन्म कुंडली कैसे देखें? Check Free Kundali

अपनी जन्म कुंडली कैसे देखें? Check Free Kundali

ज्योतिषी आपकी कुंडली देखकर आपके भाग्य की जानकारी देता है, जिसके बदले में हमें कुछ पैसे के रूप में कुछ दान करना होता है। इसलिए यदि आप अपनी जन्म कुंडली स्वयं देखना चाहते हैं तो यहां पर विस्तृत जानकारी दी जा रही है कि आप अपनी जन्म कुंडली कैसे देख सकते हैं, राशिफल देखने का सही तरीका क्या है।

हिंदू धर्म में कुंडली का विशेष महत्व माना जाता है, क्योंकि बच्चे के जन्म के तुरंत बाद सबसे पहले बच्चे की कुंडली उसके जन्म के समय के साथ बनाई जाती है, जो उसके जीवन के लिए सबसे महत्वपूर्ण है।

मान्यता के अनुसार व्यक्ति का भाग्य उसके जन्म से पहले ही निर्धारित हो जाता है और जन्म के बाद यह भाग्य कुंडली के रूप में कुंडली से जुड़ा होता है। इसलिए ज्यादातर लोग किसी न किसी ज्योतिषी के पास जाते हैं और अपने बच्चे के जन्म के समय अपनी कुंडली बनवाते हैं, लेकिन लोग अपनी कुंडली खुद नहीं देख पाते हैं।

कुंडली देखने का सही तरीका (मुफ्त ऑनलाइन कुंडली देखे)

  • ऑनलाइन राशिफल देखने के लिए आपको सबसे पहले www.freekundli.com पर जाना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने एक नया फॉर्म खुलेगा।
  • यहां आपको अपना नाम, जन्म तिथि, जन्म समय आदि सभी जानकारी भरकर सबमिट बटन पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद आपका राशिफल आपके सामने खुल जाएगा। आप इस जन्म कुंडली का उपयोग कर सकते हैं, कुंडली को हिंदी में डाउनलोड करें।
  • फिर आप उसका प्रिंट आउट भी ले सकते हैं।

अपनी जन्म कुंडली (Horoscope) कैसे देखे

जन्म कुंडली किसी व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों और नक्षत्रों की चाल पर निर्भर करती है, जन्म कुंडली का वैदिक ज्योतिष में विशेष महत्व है, प्रत्येक जन्म कुंडली में 12 खान बनाए जाते हैं, ज्योतिष की भाषा में इन खानों को भव के नाम से जाना जाता है।

जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि कुंडली के निर्माण में 12 राशियों का उपयोग किया जाता है, प्रत्येक राशि के लिए अलग-अलग घर होते हैं, प्रत्येक घर में एक राशि होती है। जन्म कुंडली की सहायता से व्यक्ति के भूत, वर्तमान और भविष्य की जानकारी प्राप्त होती है।

Read Also:

कुंडली के माध्यम से राशियों और नक्षत्रों में सूर्य, चंद्रमा और अन्य ग्रहों की स्थिति के बारे में सटीक जानकारी प्राप्त की जाती है।

सबसे महत्वपूर्ण ग्रहों की स्थिति जन्म कुंडली में होती है। जन्म कुंडली को कुंडली में घरों, ग्रहों, दशाओं और गोचर द्वारा पढ़ा जा सकता है।

राशि चक्र की पहचान

  • मेष (नाम अक्षर: चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, ए)
  • वृषभ (नाम वर्ण: ई, यू, ए, ओ, वा, वू, वू, वू, वू)
  • मिथुन (नाम अक्षर: a,ki,ku,d,d,ch,k,ko,h
  • कर्क राशि (नाम अक्षर: हाय, हू, वह, हो, दा, डी, दो, दिन, दो)
  • सिंह (नाम अक्षर: ma,mi,moo,me,mo,ta,te,tu,tay)
  • कन्या (नाम अक्षर: to, pa, pi, poo, sh, n, th, pe, po)
  • तुला (नाम अक्षर: रा, री, रु, रे, रो, टा, ती, तू, ते)
  • धनु (नाम पत्र: ये, यो, भा, भी, भू, ध, एफ, ध, भे)
  • मकर (नाम अक्षर: भो, जे, जा, जी, जय, जो, खा, खी, खू, खे, खो, गा, गी, गया)
  • कुंभ (नाम अक्षर: गु, गे, गो, सा, सी, सु, से, सो, दा)
  • मीन (नाम अक्षर: di,du,th,jh,de,do,cha,chi)

कुंडली में ग्रह

कुंडली के ग्रह इस प्रकार है:

  • रवि
  • चांद
  • भाग्यशाली
  • बुध
  • बृहस्पति
  • शुक्र
  • शनि ग्रह
  • राहु
  • केतु

कुंडली के भाव

  • प्रथम भाव
  • द्वितीय भाव
  • तृ्तीय भाव
  • चतुर्थ भाव
  • पंचम भाव
  • षष्ठ भाव
  • सप्तम भाव
  • अष्टम भाव
  • नवम भाव
  • दशम भाव
  • एकादश भाव
  • द्वादश भाव

राशियों के स्वामी के नाम

  • मेष राशि का स्वामी = मंगल
  • वृष राशि का स्वामी = शुक्र
  • मिथुन राशि का स्वामी = बुध
  • कर्क राशि का स्वामी = चंद्रमा
  • सिंह का स्वामी = सूर्य
  • कन्या राशि का स्वामी -=बुध
  • तुला राशि का स्वामी = शुक्र
  • वृश्चिक राशि का स्वामी = मंगल
  • धनु राशि का स्वामी = गुरु
  • मकर राशि का स्वामी = शनि
  • कुंभ राशि का स्वामी = शनि
  • मीन राशि का स्वामी = स्वामी

कुंडली में भाव क्या हैं?

कुंडली में आपने देखा होगा कि उसमें खाने बने होते हैं। इन्हीं खानों को भाव या घर कहते हैं। इनकी संख्या 12 है। ये बारह खाने या भाव व्यक्ति के संपूर्ण जीवन की व्याख्या करते हैं। यहाँ मोटे तौर पर जानिए कि पहला भाव व्यक्ति के चरित्र, स्वभाव, रंग रूप के बारे में बताता है। इसे लग्न भाव की कहते हैं।

दूसरा भाव धन, वाणी और प्रारंभिक शिक्षा का होता है। तीसरा है छोटे भाई-बहनों का, साहस, पराक्रम, चतुर्थ भाव को सुख कहते हैं। इस घर में माता, वाहन, संपत्ति आदि चीजें देखने को मिलती हैं। पंचम भाव उच्च शिक्षा, संतान, प्रेम, रोमांस से संबंधित है। छठे भाव से शत्रु, रोग, प्रतिस्पर्धा आदि दिखाई देते हैं।

सप्तम भाव विवाह का भाव होता है। इस भाव से जीवन साथी और जीवन में होने वाली किसी भी प्रकार की साझेदारी को देखा जाता है। आठवां भाव जीवन में अचानक आने वाली घटनाओं का बोध कराता है। नवम भाव धर्म, गुरु और भाग्य, लंबी दूरी की यात्रा का प्रतिनिधित्व करता है। दशम भाव को कर्म भाव कहा जाता है।

Read Also: Aaj Ka Rashifal

इस घर से व्यक्ति और उसके पिता का पेशा देखा जाता है। ग्यारहवां भाव लाभ का भाव है। इसी के साथ आमदनी और जीवन में हर तरह की उपलब्धियां, बड़े भाई-बहन, दोस्त आदि देखने को मिलते हैं. बारहवां भाव हानि का भाव है। इसी के साथ जीवन में हर तरह की हानि, खर्च, विदेश यात्रा आदि देखने को मिलती है.

जन्म कुंडली में राशियाँ क्या हैं?

भाव में राशियां बैठी होती हैं, एक भाव में एक राशि होती है। मेष, वृष, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर, कुंभ, मीन। इनमें से प्रत्येक राशि का अपना स्वभाव और चरित्र होता है।

किसी व्यक्ति के पहले भोजन में जो राशि होती है उसे लग्न राशि कहा जाता है। जबकि जिस राशि में चंद्रमा बैठा होता है उसे चंद्रमा और जिस राशि में सूर्य बैठा होता है उसे सूर्य राशि कहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *