What is Computer? कंप्यूटर के प्रकार और उपयोग

Computer Kya Hota Hai: कंप्यूटर विकास का नया रूप है जिसने दुनिया को बदलने की क्षमता है। कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक यन्त्र है, जो Data को Process करने और Store करने के लिए इस्तिमाल किया जाता है। यहाँ आप जानोगे की कम्प्यूटर क्या है? परिभाषा और पूरा नाम हिंदी में, कंप्यूटर का परिचय और इसके इतिहास के बारे में सम्पूर्ण जानकारी।

कंप्यूटर हमारी आम जिंदगी की एक जरूरत बन चूका है, कई Types के कंप्यूटर जिनको हम दैनिक जीवन में उपयोग करते है और जो आपके हाथ में Smartphone है वो भी Computer का एक छोटा रूप है।

Computer की विशेषताएं और सीमाएं बहुत ज्यादा है और कम्प्यूटर फील्ड में करियर बनाना एक अच्छी बात है जिसके बारे में आप इस लेख में सीखेंगे।

कम्प्यूटर क्या है? Computer Kya Hai Hindi Me

कंप्यूटर क्या है computer in hindi
कंप्यूटर क्या है computer in hindi

एक कंप्यूटर एक मशीन है जो कुछ निर्देशों के अनुसार कार्य करता है। एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है, जिसे सूचना के साथ काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। कंप्यूटर शब्द लैटिन शब्द “कॉम्पुटेयर” (Computare) से लिया गया है। इसका अर्थ है गणना या गणना।

Computer के 3 मुख्य कार्य हैं।

Input Data → Processing → Output Data

  • सबसे पहले डेटा लेना है जिसे हम इनपुट (Input) भी कहते हैं।
  • दूसरा काम उस डेटा को प्रोसेस (Process) करना है।
  • तीसरा कार्य संसाधित डेटा को दिखाना है जिसे आउटपुट (Output) भी कहा जाता है।
how works computer in hindi
how works computer in hindi

कंप्यूटर की परिभाषा ( Computer Definition)

Computer” शब्द लैटिन शब्द ‘Computare‘ से उत्पन्न हुआ, जिसका अर्थ है – गणना करना। कंप्यूटर को हिंदी में “संगणक” कहा जाता है। एक कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो डेटा और निर्देशों के रूप में उपयोगकर्ता से इनपुट प्राप्त करता है।

इनपुट डेटा प्राप्त होने के बाद, यह डेटा को संसाधित करना शुरू कर देता है और उपयोगकर्ता के निर्देशों के अनुसार हमें आउटपुट प्रदान करता है।

हम यह भी कह सकते हैं कि कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है। डेटा इसे इनपुट के रूप में लेता है, इसे संसाधित करता है और आउटपुट के रूप में हमें परिणाम प्रदान करता है।

कम्प्यूटर का Full Form:

कंप्यूटर के बारे में एक आम धारणा यह भी है कि कंप्यूटर एक अंग्रेजी शब्द है। हिंदी में कंप्यूटर का अर्थ “गणना” है। इसका मतलब है कि कंप्यूटर एक कैलकुलेटर है।

हालाँकि, कंप्यूटर को कनेक्टिंग मशीन कहना गलत होगा। क्योंकि कंप्यूटर को जोड़ने के अलावा, सैकड़ों विभिन्न कार्य किए जाते हैं।

कम्प्यूटर की विशेषताएं

  1. गति: कंप्यूटर एक सेकंड में लाखों गणनाएँ कर सकता है। एक कंप्यूटर एक इंसान द्वारा पूरे साल में किए गए काम को कुछ सेकंड में कर सकता है। कंप्यूटर प्रोसेसर की गति को हर्ट्ज (Hz) में मापा जाता है। वर्तमान में, कंप्यूटर नैनो-सेकंड (10–9 सेकंड) में गणना कर सकता है।
  2. त्रुटि रहित कार्य: कम्प्यूटर की गणनाएं लगभग त्रुटिरहित होती हैं। गणना के दौरान अगर कोई त्रुटि (error) पायी भी जाती है तो वह प्रोग्राम या डाटा में मानवीय गलतियों के कारण होती है। अगर डाटा और प्रोग्राम सही है तो कम्प्यूटर हमेशा सही परिणाम ही देता है। कभी-कभी वायरस है तो कम्प्यूटर हमेशा सही परिणाम नहीं देता है। कभी-कभी वायरस के कारण भी कम्प्यूटर में त्रुटियां आ जाती है।
  3. स्थायी भंडारण क्षमता: कम्प्यूटर में प्रयुक्त मेमोरी को डाटा, सूचना और निर्देशों के स्थायी भंडारण के लिए प्रयोग किया जाता है। चूंकि कम्प्यूटर में सूचनाएं इलेक्ट्राॅनिक तरीके से संग्रहित की जाती है, अतः सूचना के समाप्त होने की संभावना कम रहती है।
  4. विशाल भंडारण क्षमता: कम्प्यूटर के External) तथा Internal संग्रहण माध्यमों (हार्ड डिस्क, फ्लॉपी डिस्क, मैग्नेटिक टेप,सीडी राॅम) में असीमित डाटा और सूचनाओं का संग्रहण किया जा सकता है । कम्प्यूटर में कम स्थान घेरती सूचनाओं का संग्रहण किया जा सकता है। अतः इसकी भंडारण क्षमता विशाल और असीमित है।
  5. भंडारित सूचना: कम्प्यूटर प्रयोग द्वारा कुछ ही सेकेण्ड में भंडारित सूचना में से आवश्यक सूचना को प्राप्त किया जा सकता है। रेम (RAM- Random Access Memory) के प्रयोग से वह काम और भी सरल हो गया है।
  6. जल्द निर्णय: कम्प्यूटर परिस्थितियों का विश्लेषण पूर्व में दिए गए निर्देशों के आधार पर तीव्र निर्णय की क्षमता से करता है।
  7. विविधता: कम्प्यूटर की सहायता से विभिन्न प्रकार के कार्य संपन्न किये जा सकते हैं। आधुनिक कम्प्यूटरों में अलग-अलग तरह के कार्य एक साथ करने की क्षमता है।
  8. पुनरावृति: कम्प्यूटर आदेश देकर एक ही तरह के कार्य बार-बार विश्वसनीयता और तीव्रता से कराये जा सकते हैं।
  9. स्फूर्ति: कम्प्यूटर को एक मशीन होने के कारण मानवीय दोषों से रहित है। इसे थकान तथा बोरियत महसूस नहीं होती है और हर बार समान क्षमता से कार्य करता है।
  10. गोपनीयता: पासवर्ड के प्रयोग द्वारा कम्प्यूटर के कार्य को गोपनीय बनाया जा सकता है। पासवर्ड के प्रयोग से कम्प्यूटर में रखे डाटा और कार्यक्रमों को केवल पासवर्ड जानने वाला व्यक्ति ही देख या बदल सकता है।
  11. कार्य की एकरूपता: बार-बार तथा लगातार एक ही कार्य करने के बावजूद कम्प्यूटर के कार्य की गुणवत्ता पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।

कम्प्यूटर का इतिहास (Computer History Hindi)

Who Invented Computer? “चार्ल्स बैबेज” एक ब्रिटिश गणितज्ञ थे। चार्ल्स बैबेज का जन्म 26 नवंबर 1791 को हुआ था। 1837 में विश्लेषणात्मक इंजन के आविष्कार और अवधारणा के बाद, उन्हें “कंप्यूटर का पिता” (कंप्यूटर का पिता) कहा जाता है।

उन्होंने 1822 में पहला मैकेनिकल कंप्यूटर बनाया। जिसे हम अंतर इंजन के रूप में जानते हैं। जिसके आधार पर आज के सभी कंप्यूटर काम कर रहे हैं, “चार्ल्स बैबेज” को “कंप्यूटर का पिता” कहा जाता है।

हालाँकि शुरू में वह गणित से प्यार करता था, उसने गणित में बड़ी गणनाओं को हल करने के लिए एक “कंप्यूटर” मशीन बनाई। डिजिटल प्रोग्रामेबल कंप्यूटर की चार्ल्स बेवेज की अवधारणा आधुनिक कंप्यूटरों का आधार बन गई, और इसी कारण चार्ल्स बेवेज को कंप्यूटर का पिता कहा जाता है।

चार्ल्स बैबेज ने 1837 में एक स्वचालित कंप्यूटर प्रणाली के निर्माण की परिकल्पना की थी। दुर्भाग्य से, इस कंप्यूटर को फंडिंग इश्यूज़ के कारण कभी नहीं बनाया गया था जबकि चार्ल्स बैबेज जीवित थे।

कंप्यूटर के भाग (Parts of Computer)

CPU को कंप्यूटर का मस्तिष्क भी कहा जाता है। CPU का पूरा नाम सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट है और इसे हिंदी में सेंट्रल ऑपरेटिंग सिस्टम कहा जाता है। CPU कंप्यूटर का एक प्रमुख हिस्सा है जिसका काम कंप्यूटर में आने वाले इनपुट निर्देशों को संसाधित करना है।

  • मॉनिटर (Monitor):

कैथोड-रे-ट्यूब मॉनिटर (CRT) सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला आउटपुट डिवाइस है, जिसे विज़ुअल डिस्प्ले यूनिट के रूप में भी जाना जाता है। LCD में फुल फॉर्म “लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले” है।

  • कीबोर्ड (Keyboard):

कीबोर्ड एक इनपुट डिवाइस है। कीबोर्ड का हिंदी में मतलब होता है “कुँजीपटल“। इसकी मदद से, हम कंप्यूटर को निर्देश देते हैं। कीबोर्ड का मुख्य उपयोग टेक्स्ट लिखना है।

एक माउस एक इनपुट डिवाइस है, जिसका नाम मूल रूप से पॉइंटिंग डिवाइस है। इसका उपयोग मुख्य रूप से कंप्यूटर स्क्रीन पर आइटमों को चुनने, स्थानांतरित करने और खोलने और बंद करने में किया जाता है। माउस के माध्यम से, उपयोगकर्ता कंप्यूटर को निर्देश देता है। इसके जरिए यूजर कंप्यूटर स्क्रीन पर कहीं भी पहुंच सकता है।

  • प्रिंटर (Printer):

प्रिंटर एक ऐसी डिवाइस है जिसका उपयोग कागज पर डिजिटल सामग्री को प्रिंट करने के लिए किया जाता है। यह टेक्स्ट और इमेज दोनों को प्रिंट कर सकता है। अक्सर यह कंप्यूटर के साथ काम करता है, लेकिन यह अन्य डिजिटल उपकरणों के साथ भी काम कर सकता है। कागज पर मुद्रित सामग्री को हार्ड कॉपी कहा जाता है।

कम्प्यूटर के प्रकार (Computer Types in Hindi)

मैं आपको कंप्यूटर के कुछ प्रकार के बारे में बताने जा रहा हूं क्यूंकि आपके हाथ में जो फ़ोन है वो भी एक तरह से कंप्यूटर ही है, कंप्यूटर बहुत प्रकार के होते है जिनको उनकी क्षमता और स्पीड के आधार पर अलग-अलग श्रेणी में बांटा गया है, अगर कम्प्यूटर के प्रकार की बात करें तो हम इसे कार्यप्रणाली, उद्देश्य और आकार के आधार पर विभाजन कर सकते है, चलिए जानते है कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं।

Types of Computer in Hindi
Types of Computer in Hindi

Computer को तीन आधार पर बनाया गया है, Computer को उनके आकर प्रकार काम करने की समता से पहचाना जाता है.

  • कार्यप्रणाली के आधार पर (Based on Mechanism)
  • उद्देश्य के आधार पर (Based on Purpose)
  • आकार के आधार पर (Based on Size)

Types of Computer by Processing

1. Analog Computer:

एनालॉग कंप्यूटर का क्या मतलब है? Analog Computer एक प्रकार का होता है जो की Analog data को Process करता है, जिसका उपयोग मुख्यत Specialized Engineering और Scientific Applications में किया जाता है, Analog Data एक ऐसा डाटा होता है जो Numbers के फॉर्म में नहीं होता जो की Physical Quantity के फॉर्म में पाए जाते है.

Analog  Data को गणना नहीं किया जा सकता है जैसे Voltage, Temperature, Pressure जो की Analog  Data है जिसे हम जानते है, इसका उपयोग भौतिक समस्याओं के समाधान के लिए किया जाता है। मुख्य रूप से इंजीनियरिंग एवं वैज्ञानिक समीकरणों के हल के लिए इसका उपयोग किया जाता है।

2. Digital Computer:

यह कंप्यूटर डिजिटल इसलिए होते है क्यूंकि यह Digits के आधार पर कार्य करते है जिसके लिए Numbers / नुमेरिकल Data को Process करता है, इसमें जानकरी Discrete Numbers में होती है जो “Zero” और  “One” के आधार पर कार्य करती है। जिसमे संख्यात्मक जानकारी को 2 अलग-अलग घटना के रूप में कमांड किया जाता है.

(ऑन / ऑफ, हाई वोल्टेज / लो वोल्टेज, करंट / नो करंट, आदि) को Binary Variable का मान “शून्य” और “एक” के आधार पर दर्शाया जाता है।

3. Hybrid Computer:

जिनमे Analog Computer और Digital Computer इन दोनों के गुण हो वो Hybrid Computer कहलाते है, हाइब्रिड कंप्यूटर वे कंप्यूटर होते हैं जो एनालॉग कंप्यूटर और डिजिटल कंप्यूटर की विशेषताओं को प्रदर्शित करते हैं।

डिजिटल घटक सामान्य रूप से नियंत्रक के रूप में कार्य करता है और Logical और Numerical Operations प्रदान करता है, जबकि एनालॉग घटक अक्सर अंतर समीकरणों और Mathematically Complex Equations से जटिल समीकरणों के एक सॉल्वर के रूप में कार्य करता है।

एक ऐसा कंप्यूटर होता है जो Binary के साथ Analog Signal को भी बड़ी आसानी से समझने में सक्षम होता है, और स्पीड की बात करें तो Analog Computer से ज्यादा और Digital Computer से कम होती है।

Types of Computer by Purpose

1. Desktop Computer:

नाम से ही ज्ञात हो जाता है की Desktop Computer क्या होते है? वो है जिनको हम टेबल पर रखकर चलाते है, Desktop Computer एक ऐसा Computer है जिसे Desk पर सेट किया जाता है।

इसमें प्रोसेसिंग के लिए एक CPU, डिस्प्ले के लिए मॉनिटर (Monitor) , की-बोर्ड (Keyboard), तथा माउस (Mouse) होते है। इन्हें हम अलग अलग देख सकते है। Desktop Computer की कीमत कम होती है परन्तु इसे एक जगह से दूसरी जगह ले जाना मुस्किल होता है।

2. Laptop Computer:

वो होते है. जिन्हें कहा पर भी चलाया जा सकता है जैसे गोदी में रखकर, या गाड़ी में, या गार्डन में, यह साइज़ बहुत छोटे और कंपटेबल होते है, इन Computer को यहाँ वहा बहुत आसनी से ले-जा सकते है, इसमे पॉवर के लिए बैटरी का इस्तेमाल होता है।

आप लैपटॉप को एक Modern PC भी बोल सकते है जो कम Power Consuming, आकार में बहुत ही छोटे, और Portable होते हैं, साथ में इन्हें सभी Features होते है जो आपको एक डेस्कटॉप कंप्यूटर में देखने को मिल जायेंगे।

3. Notebook Computer:

Laptop Computer के जैसे ही होते है, एक नोटबुक कंप्यूटर, जिसे कभी-कभी एक लैपटॉप कंप्यूटर कहा जाता है, आमतौर पर 5 पाउंड से कम वजन का होता है और मोटाई में 3 इंच या उससे कम होता है।

नोटबुक और लैपटॉप कंप्यूटर के सबसे प्रसिद्ध निर्माताओं की बात करें तो आईबीएम, एप्पल, कॉम्पैक, Dell, Toshiba, और Hewlett-Packard हैं।

4. Tablet Computer:

यह Computer Dasktop Computer, Laptop Computer से बहुत छोटे Computer होते है, जिन्हें हम Tablet Computer भी कहते है, यह मोबाइल डिवाइस से काफी हद तक सिमिलर होते है.

एक टैबलेट कंप्यूटर, जिसे आमतौर पर टैबलेट के लिए छोटा किया जाता है, एक मोबाइल डिवाइस है, जिसमे आपको एक मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम, टचस्क्रीन डिस्प्ले प्रोसेसिंग सर्किट्री और एक पतली, फ्लैट पैकेज में रिचार्जेबल बैटरी मिलती है।

5. Palmtop Computer:

यह Computer Laptop Computer से छोटे होते है. जिनको हम हाथ पर रखकर चलाते है, इनकी काम करनेकी क्षमता Laptop Computer से थोड़ी कम होती है।

इसका उपयोग मुख्यत Higher Authorities, Social Workers, Researcher जो की ऐसे Remote Rural Area में काम करते है तो ज्यादातर इसका इस्तेमाल करते है क्यूंकि इसका आकार काफी छोटा होता है जिसको ओपरेट करने के लिए टेबल की जरुरत नहीं होती।

Types of Computer by Size

1. Personal Computer

Personal Computer यानी जो हम हमारे पर्सनल काम में एकाउंटिंग में Use करते है. इसे हम नोर्मल या माइक्रो Computer भी कह सकते है. जो आज कल हम सभी के घर मे होते है. लैपटॉप और डेस्कटॉप को भी पर्सनल Computer कह सकते है. यह Computer हमे अच्छे प्राइस में मिल जाते है।

जहा पर हमें कम डेटा मैनिपुलेट करना होता है. ऐसी जगह ये Computers Use किए जाते है. PC Single User Use कर सकते है. Home या Office में. लेकिन हम इसे नेटवर्क से जोड़कर Multiple Users भी इस्तेमाल कर सकते है. कुछ Popular Micro Computer है -HP, Soby, Dell, Apple, Samsung And Toshiba इत्याति।

2. Mini Computer

यह कंप्यूटर्स जो की मध्यम रेंज के ही होते है. लेकिन PC से थोड़े महेंगे होते है. यह Computer बहुत ही पॉवरफुल होते है. क्योंकि इस Computer को एक साथ 200 से ज्यादा यूज़र्स इस्तेमाल कर सकते है।

यह Computers बहुत महेंगे भी होते है. इस Computer का इस्तेमाल छोटी-मोठी कंपनी और Organization में किया जाता है।

कुछ Popular Mini Computers है. जैसे – K202, Texas Instrument TI990, SDS-, 92, IBM Midrange Computer इत्यादि।

3. MainFrame Computer

वैसे तो Menfrem Computers Super Computer से ज्यादा Pawerful नही हैं. मगर हाल ही ये भी Expensive Computer की रेंज में आ गए है. और बहुत से Goverment Organization उनका सभी बिज़नेस इन्ही Computers से चलता है।

इन कंप्यूटर्स में इतनी एबिलिटी होती है. कि ये कंप्यूटर्स एक साथ Million Users की Command पर Rispond कर सकते हैं. कुछ Popular Menfrem Computers है. जैसे – IBM 4381, FujitsuICL WME, HitachiZ800 इत्यादि।

4. Super Computers

ये एक बहुत ही मंहगा Computer है. जो आम इंसान अफ़्फोर्ड नही कर सकता. ये Computer बहुत ही फ़ास्ट काम करते हैं. जहा बहुत ज्यादा डेटाबेस मैनिपुलेट करना पड़ता है. वहा इन Super Computers को Use में लिया जाता है. बड़ी Organization यह Computer इस्तेमाल करती है. उदाहरण नासा, वेदर रिपोर्ट, साइंटेस्ट आदि।

कुछ Popular Super Computers है जैसे – Tianhe-2(MilkyWay-2), Titan, Cray XK7, Cray Inc, K Computer, Tofu Interconnect Fujitsu इत्यादि।

Bonus Tips: भारत का पहला सुपर कंप्यूटर का नाम परम है।

अब आप समझ गए होगे की, कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है ? (The Computer Consists Of Many Types) क्यूंकि आज के इस लेख में हमने चर्चा की है की कंप्यूटर को हम अलग-अलग आधार पर विभाजित करके पता कर सकते है की कंप्यूटर कितने प्रकार के होते है, और हम दैनिक जितने में कंप्यूटर को अलग-अलग रूप में देखते है जिन्होंने हमारा काम आसान बना दिया है।

कंप्यूटर का हिंदी में उपयोग (Use of Computer in Hindi)

#1 Computer for home use:

अगर आप कंप्यूटर को घर में लेकर आते है तो हम अपने घर का बजट कंप्यूटर के माध्यम से तैयार कर सकते हैं। कंप्यूटर पर हम गाने सुन सकते हैं, वीडियो डाउनलोड कर सकते हैं, फिल्में देख सकते हैं और बच्चों को कंप्यूटर सिखा सकते हैं।

#2 Use of Computer in Business:

व्यावसायिक क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग बहुत अधिक होने लगा है। कंप्यूटर के उपयोग ने व्यवसाय करने के तरीके को पूरी तरह से बदल दिया है। आप कंप्यूटर द्वारा अपने कर्मचारियों के रिकॉर्ड, उत्पादन, बिक्री विवरण, स्टॉक आदि बना और संकलित कर सकते हैं। इसलिए कार्यालयों में कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है।

#3 Use of Computer in Education:

इंटरनेट के माध्यम से कंप्यूटर पर अध्ययन को ऑनलाइन अध्ययन कहा जाता है। आप एक क्लिक पर हजारों कॉलेजों, विश्वविद्यालयों और पाठ्यक्रमों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, और प्रवेश भी प्राप्त कर सकते हैं। आजकल इसके माध्यम से परीक्षाएं भी आयोजित की जा रही हैं।

#4 Use of computers in health and medicine:

कंप्यूटर के अभ्यास के बाद, स्वास्थ्य और चिकित्सा विभागों में बहुत वृद्धि हुई है, चिकित्सा क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग आसानी से रोगियों के रिकॉर्ड बना सकता है और एक क्लिक से पाया जा सकता है।

कंप्यूटर का उपयोग किसी रोग का निदान खोजने के लिए भी किया जाता है।रोगी के स्वास्थ्य की निगरानी समय-समय पर की जा सकती है। लगभग हर प्रकार के कंप्यूटराइज्ड मशीनों का परीक्षण किया जा रहा है।

#5 In Computer Science and Engineering:

कंप्यूटर के साथ वैज्ञानिक सबसे पुराना संबंध है। कंप्यूटर का उपयोग केवल विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपने आविष्कार द्वारा किया जा रहा है। इसलिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी का क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं है।

कंप्यूटर द्वारा कुछ ही मिनटों में इंजीनियर अपने जटिल समीकरणों और डिजाइनों को आसानी से पूरा कर लेते हैं। मौसम पूर्वानुमान, परिवहन संचालन, अंतरिक्ष, भूगोल आदि क्षेत्रों में कंप्यूटर का योगदान अतुलनीय है।

Work in Computer Field:

Computer कितने प्रकार के होते है मुझे उम्मीद है की यह पोस्ट आपको काफी पसंद आया होगा। इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Google+ और Twitter इत्यादि पर अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें।

Founder @Sahu4You
Vikas Sahu

About Vikas Sahu

Vikas Sahu is the CEO and Founder of Sahu4You, Vikas Sahu is a ProBlogger & Entrepreneur. Vikas runs a popular Hindi tech blog Sahu4You

Leave a Comment