Indian Police Rank List की पूरी जानकारी

Indian Police Rank List: पुलिस विभाग में कई पद हैं, जिसके कारण अधिकांश लोगों को यह नहीं पता होता है कि पुलिस विभाग में सबसे बड़ा अधिकारी कौन है। इस वजह से कई बार परेशानी में पड़ने के बाद भी लोगों को यह नहीं पता होता है कि वे अपनी समस्या की शिकायत किस अधिकारी से करें.

आम जनता के इन भ्रमों को दूर करने के लिए हम यहां बता रहे हैं कि पुलिस विभाग में कौन सी पोस्ट सबसे बड़ी है और उसके बाद कौन सी पोस्ट आती है। तो आइए जानते हैं यहां?

PCSPCHCASI
SIAPITIDSP
ASPSPSSPDIG
IGPADGPDGPDIB

पुलिस विभाग में सबसे बड़ा अफसर कौन होता है?

Police Department की सबसे बड़ी रैंक पुलिस अधिकारी DGP (डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस ) की होती है। ये हैं IPS Rank के अधिकारी, जो UPSC की Civil Services Examination पास करके बनते हैं। पहले ASP के पद पर तैनात होते है।

भारत में, पुलिस महानिदेशक (DGP) एक तीन सितारा रैंक है और भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में सर्वोच्च रैंकिंग वाला पुलिस अधिकारी है।

पुलिस की वर्दी और रैंक की पहचान कैसे करें?

पुलिस की वर्दी और स्टार से उसकी रैंक कैसे पहचानें? पुलिस की वर्दी सबके लिए समान होती है चाहे कोई ऊँचे पद पर हो या सिपाही के रूप में कार्यरत हो। लेकिन आपने देखा होगा कि वर्दी एक जैसी होती है लेकिन पुलिस की वर्दी पर लगे स्टार से अलग होती है या किसी वर्दी में कोई स्टार या कोई प्रतीक नहीं होता है।

Gazetted & Non-Gazetted Officers Rank

Gazetted & Non-Gazetted Officers का प्रतीक चिन्ह

Indian State Police Gazetted Officer Rank

Indian State Police Non-Gazetted Officer Rank

Indian State Police Non-Gazetted Officer Rank Insignia

आप अक्सर अपने दैनिक जीवन में कई पुलिसकर्मियों को देखते हैं और सभी पुलिसकर्मियों की वर्दी एक जैसी दिखती है लेकिन पुलिसकर्मियों की वर्दी पर अलग-अलग “बैज” होते हैं जो पुलिस रैंक और पुलिसकर्मियों की शक्ति के बारे में जानकारी देते हैं।

हर पुलिसकर्मी की वर्दी पर एक बैज होता है, जो पुलिस के रैंक की जानकारी देता है, लेकिन आम लोगों को पुलिसकर्मियों की वर्दी पर लगे बैज की जानकारी नहीं होती है। जिसके कारण वे यह पता नहीं लगा पा रहे हैं कि आपके सामने खड़े पुलिसकर्मी की रैंक क्या है।

Indian Police Rank List in Order

पुलिस की वर्दी और स्टार से उसकी रैंक कैसे पहचानें? पुलिस की वर्दी सबके लिए समान होती है चाहे कोई ऊँचे पद पर हो या सिपाही के रूप में कार्यरत हो। लेकिन आपने देखा होगा कि वर्दी एक जैसी होती है लेकिन पुलिस की वर्दी पर लगे स्टार से अलग होती है या किसी वर्दी में कोई स्टार या कोई प्रतीक नहीं होता है।

कई युवा आज के समय में पुलिस बल की तैयारी कर रहे हैं, आप किस पद या पद की तैयारी कर रहे हैं, आपको पता होना चाहिए कि पद के अनुसार पुलिस बल को विभिन्न श्रेणियों, विभागों में तैनात किया जाता है। है। क्या आपने कभी गौर किया है कि एक पुलिसकर्मी की वर्दी पर एक तारा या अशोक का खंभा और तलवार होती है, लेकिन कुछ पुलिसकर्मियों की वर्दी एक जैसी होती है, उसमें सितारे नहीं होते हैं।

Police Constable (PC)

यह पुलिस विभाग में सबसे निचला पद है जिसे पुलिस कांस्टेबल या कांस्टेबल कहा जाता है। सिपाही की वर्दी पर कोई बिल्ला नहीं होता है और यह पुलिस की सादी वर्दी में होता है, पुलिस कांस्टेबल का पुलिस रैंक सबसे नीचे होता है।

एक कांस्टेबल एक विशेष कार्यालय रखने वाला व्यक्ति होता है, जो आमतौर पर आपराधिक कानून प्रवर्तन में होता है। विभिन्न न्यायालयों में कांस्टेबल का कार्यालय महत्वपूर्ण रूप से भिन्न हो सकता है।

एक कांस्टेबल आमतौर पर पुलिस के भीतर एक अधिकारी का पद होता है। अन्य लोगों को इस उपाधि को धारण किए बिना एक कांस्टेबल की शक्तियाँ दी जा सकती हैं।

Senior Police Constable (SPC)

सीनियर पुलिस कांस्टेबल यानी एसपीसी का एक अलग पुलिस रैंक होता है, उनकी वर्दी में काली पट्टी पर दो पीली धारियां या चौड़ी पट्टी पर दो लाल धारियां होती हैं। भारतीय पुलिस में हेड कांस्टेबल दूसरे देशों के पुलिस बलों में हवलदार के बराबर होता है। हेड कांस्टेबल अपनी आस्तीन पर तीन नुकीले शेवरॉन पहनते हैं या तीन अपने एपॉलेट्स पर।

Head Constable (HC)

इसके बाद एक हेड कांस्टेबल होता है जिसकी पुलिस रैंक इससे ऊपर होती है, इसलिए हेड कांस्टेबल की वर्दी में काली पट्टी या तीन लाल पट्टी पर तीन पीली धारियां होती हैं।

Assistant Sub-inspector (ASI)

हेड कांस्टेबल के बाद सहायक उप निरीक्षक यानी एएसआई का पुलिस रैंक आता है, जिसे हिंदी में सहायक उप निरीक्षक कहा जाता है। एएसआई की वर्दी में एक पट्टी होती है जिस पर एक लाल और एक नीली पट्टी होती है जिसके कंधे पर एक तारा होता है।

Sub-Inspector (SI)

ASI के बाद अगला पुलिस रैंक सब इंस्पेक्टर यानी एसआई का होता है जिसे हिंदी में सब इंस्पेक्टर कहा जाता है। एसआई की वर्दी पर एएसआई की वर्दी जैसी पट्टी होती है, जिस पर लाल और नीले रंग की पट्टी होती है, लेकिन एक तारे की जगह दो तारे लगे होते हैं।

Assistant Police Inspector (API)

अगला पद सहायक पुलिस निरीक्षक का है, उनकी वर्दी में तीन स्टार के साथ-साथ एक लाल पट्टी भी लगी हुई है। इंस्पेक्टर एक पुलिस रैंक और एक प्रशासनिक पद दोनों है, दोनों का उपयोग कई संदर्भों में किया जाता है। हालांकि, यह हर पुलिस बल में एक समान रैंक नहीं है।

Inspector (TI)

इंस्पेक्टर थाने का प्रभारी होता है और साथ ही यह थाने का सबसे ऊंचा पद होता है जिसे SHO के नाम से भी जाना जाता है। पुलिस इंस्पेक्टर 3-4 पुलिस स्टेशनों को कवर करता है। एसएचओ इंस्पेक्टर की वर्दी पर लाल और नीले रंग की पट्टी होती है जिस पर तीन तारे जुड़े होते हैं।

Deputy Superintendent of Police (DSP)

इंस्पेक्टर के बाद, अगला पुलिस रैंक “Deputy Superintendent of Police” यानी DSP का होता है, जिसे पुलिस उपाधीक्षक कहा जाता है और सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) के रूप में भी जाना जाता है। डीएसपी की वर्दी में लाल और नीले रंग की धारियां नहीं होती, सिर्फ तीन स्टार का इस्तेमाल होता है।

भारत में, सहायक पुलिस अधीक्षक/सहायक पुलिस आयुक्त के रैंक के वरिष्ठ अधिकारी राष्ट्रीय भारतीय पुलिस सेवा या राज्य पुलिस सेवाओं से संबंधित हो सकते हैं, जबकि भारतीय निरीक्षक और कांस्टेबल व्यक्तिगत प्रांतीय पुलिस बलों से संबंधित हो सकते हैं।

Additional Superintendent of Police (ASP)

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक या अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (एएसपी/डीसीपी) का पद डीएसपी के पद से ऊंचा होता है। जिसे एएसपी या एडीएल.डीसीपी कहा जाता है, जिसकी पुलिस वर्दी में अशोक स्तंभ होता है।

भारतीय राजस्व सेवा के एक अधिकारी के रूप में भारतीय आयकर, सीमा शुल्क, केंद्रीय उत्पाद शुल्क और सेवा कर प्रशासन में सहायक आयुक्त के पद का भी उपयोग किया जाता है।

Superintendent of Police (SP)

SP का पद ASP से ऊंचा होता है जिसे सुपरिन्टेन्डेन्ट ऑफ पुलिस (SP) और डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस(DCP) के नाम से जाना जाता है। पुलिस अधीक्षक कहा जाता है जो छोटे शहरों में जिले का Head होता है। SP की uniform पर अशोक स्तंभ के साथ एक तारे से सुशोभित है।

पुलिस विभाग में एसएसपी का पद एक सम्मानजनक पद होता है। एसएसपी के पद के लिए कोई सीधी भर्ती या परीक्षा आयोजित नहीं की जाती है। यह पद एसपी के पद से पदोन्नति देकर बनाया गया है।

Senior Superintendent of Police (SSP)

SP के बाद अगला सर्वोच्च पद एसएसपी का होता है, जिसे DCP के नाम से भी जाना जाता है और Senior Superintendent of Police के रूप में जाना जाता है, यह बड़े शहरों में जिले का मुखिया होता है और उसकी वर्दी पर अशोक स्तंभ के साथ दो सितारे होते हैं।

Deputy Inspector General of Police (DIG)

DIG का फुल फॉर्म Deputy Inspector General of Police होता है। इस पद पर कार्यरत पुलिस अधिकारी के कंधे पर तीन सितारे हैं। यह Senior Superintendent of Police (SSP) या Deputy Commissioner of Police (DCP) की तुलना में एक वरिष्ठ रैंक है। वे आईजी के अधीन काम करते हैं।

Inspector General of Police (IGP)

DIG से अगला उच्च पद IGP यानी पुलिस महानिरीक्षक का होता है। इसे हिंदी में पुलिस महानिरीक्षक कहा जाता है और संयुक्त पुलिस आयुक्त जेसीपी भी कहते हैं, उनकी वर्दी पर स्टार और तलवार से आईपीएस लिखा होता है।

Additional Director General of Police (ADGP)

पुलिस विभाग में IG (अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक) का पद DGP के बाद आता है। इन्हें UPSC सिविल सेवा परीक्षा पास करके बनाया जाता है। कई साल एसपी के पद पर काम करने के बाद उन्हें पदोन्नत कर आईजी बनाया जाता है। वे डीजीपी को रिपोर्ट करते हैं। डीआईजी इनके अधीन काम करते हैं।

Director General of Police (DGP)

पुलिस विभाग में सर्वोच्च पद पुलिस महानिदेशक (DGP) का होता है। ये हैं IPS रैंक के अधिकारी, जो UPSC की सिविल सेवा परीक्षा पास करके बनते हैं। सबसे पहले उन्हें एएसपी के पद पर तैनात किया जाता है। इसके बाद प्रमोशन देकर एसपी बनाया जाता है। इसके बाद एसएसपी के पद पर प्रमोशन होता है। एसएसपी के पद के बाद इस पद के लिए डीआईजीपी की नियुक्ति की जाती है।

Director of Intelligence Bureau (DIB)

इंटेलिजेंस ब्यूरो (DIB) के निदेशक, भारत की प्रमुख घरेलू-खुफिया एजेंसी, इंटेलिजेंस ब्यूरो के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। DIB भारत का सबसे वरिष्ठ भारतीय पुलिस सेवा अधिकारी है। इंटेलिजेंस ब्यूरो के वर्तमान निदेशक अरविंद कुमार हैं, जो 1 जुलाई 2019 से कार्यरत हैं

पुलिस की वर्दी पर स्टार का क्या मतलब है?

पुलिस की वर्दी पर स्टार का मतलब है कि जिस पद पर वे काम कर रहे हैं।

भारतीय पुलिस में सबसे छोटे पद पर कौन सी पुलिस तैनात है?

भारतीय पुलिस बल में सबसे छोटे पद पर पुलिस कॉन्स्टेबल तैनात है। इनकी वर्दी पर एक भी स्टार या स्ट्रिप नहीं होती हैं।

भारतीय पुलिस में सबसे बड़े पद पर किसे आयुक्त किया जाता है?

भारतीय पुलिस बल में सबसे बड़े पद पर डीआईबी होते हैं जो खुबिया एजेंसी के निदेशक के तौर पर कार्य करते हैं।

आईपीएस का पूरा नाम क्या है?

आईपीएस का पूरा नाम इंडियन पुलिस सर्विस है।

आप अक्सर अपने दैनिक जीवन में कई पुलिसकर्मियों को देखते हैं और सभी पुलिसकर्मियों की वर्दी एक जैसी दिखती है लेकिन पुलिसकर्मियों की वर्दी पर अलग-अलग “बैज” होते हैं जो पुलिस रैंक और पुलिसकर्मियों की शक्ति के बारे में जानकारी देते हैं।

हर पुलिसकर्मी की वर्दी पर एक बैज होता है, जो पुलिस के रैंक की जानकारी देता है, लेकिन आम लोगों को पुलिसकर्मियों की वर्दी पर लगे बैज की जानकारी नहीं होती है। जिसके कारण वे यह पता नहीं लगा पा रहे हैं कि आपके सामने खड़े पुलिसकर्मी की रैंक क्या है।

आज हम आपको पुलिस रैंक लिस्ट और पुलिस बैज के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं और इस लेख को पढ़कर आप आसानी से पता लगा सकते हैं कि एक पुलिसकर्मी का रैंक क्या होता है।

जानिए एक IPS ऑफिसर की सैलरी कितनी होती है?

किसी भी IPS अधिकारी की बेसिक सैलरी 56 हजार 100 रुपए होती है और डीजीपी बनने के बाद ये 2 लाख 25 हजार रुपए हो जाता है। IPS अधिकारियों को अन्य विशेष सुविधाएं भी मिलती हैं। सबसे पहले तो किसी भी IPS को रहने के लिए एक घर मिलता है।

  • डिप्टी सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस इस पद पर IPS अधिकारी को 56 हजार 100 रुपए सैलरी मिलती है।
  • एडिशनल सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस को 67 हजार 700 रुपए बेसिक सैलरी होती है।
  • सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस की 78 हजार 800 रुपए मासिक सैलरी।
  • सीनियर सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस की 1 लाख 18 हजार 500 रुपए मासिक सैलरी।
  • डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस को 1 लाख 31 हजार 100 रुपए मासिक सैलरी दी जाती है।
  • इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस की सैलरी इस पद पर 1 लाख 44 हजार 200 रुपए सैलरी होती है।
  • एडिशनल डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस को 2 लाख 5 हजार 400 रुपए सैलरी होती है।
  • डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस की मासिक सैलरी 2 लाख 25 हजार रुपए होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *