करवा चौथ का व्रत कैसे करें – चौथ व्रत की पूजन विधि

करवा चौथ को हिंदू सनातन प्रणाली में सुहागिनों का एक महत्वपूर्ण त्योहार माना जाता है। इस त्यौहार पर महिलाएँ हाथों में मेहंदी लगाती हैं, चूड़ियाँ पहनती हैं और सोलह श्रंगार करती हैं और अपने पति की पूजा करती हैं और व्रत का पालन करती हैं।

karava chauth vrat kee poojan vidhi
karava chauth vrat kee poojan vidhi

सुहागिनों या पति महिलाओं के लिए करवा चौथ बहुत ही महत्वपूर्ण उपवास है। यह व्रत कार्तिक कृष्ण की चंद्रोदय व्यापिनी चतुर्थी पर मनाया जाता है। यदि दो-दिवसीय चंद्रोदय प्रचलित है या दोनों दिन नहीं हैं, तो ‘मातृविद्या प्रस्तातिते‘ के अनुसार, किसी को पूर्वाभास करना चाहिए।

  • गर्मी Garmi – Street Dancer 3D
  • साफी (Safi) क्या है, इसके फायदे और नुकसान
  • Happy Lohri Wishes in Hindi

महिलाएं पति की लंबी उम्र के लिए यह व्रत रखती हैं। यह व्रत विभिन्न क्षेत्रों में वहां प्रचलित मान्यताओं के अनुसार रखा जाता है, लेकिन इन मान्यताओं में थोड़ा अंतर होता है। सभी का सार पति की लंबी उम्र के है।

जानियें! करवा चौथ के बारे में

करवा चौथ एक ऐसा त्योहार है जिसे हर सुहागन बड़े ही उत्साह के साथ मनाती है। जानिए इस पूजा में कौन सी पूजन सामग्री की आवश्यकता है पूरी सूची के साथ, और कौन सी सामग्री पूरी सूची के साथ थाली में शामिल है। भारतीय हिंदू सभ्यता में कई तरह की पूजा का प्रावधान है।

इन सभी पूजाओं में कुछ ऐसा है जो विवाहित महिलाओं द्वारा किया जाता है। महिलाओं द्वारा की जाने वाली पूजा की सूची में एक पूजा करवा चौथ भी शामिल है, यह हिंदुओं के पवित्र त्योहारों में से एक है। महिलाएं इस पूजा को बेहतर स्वास्थ्य और अपने पति के लंबे जीवन के लिए करती हैं।

करवा चौथ हिंदू धर्म का मुख्य त्योहार है, यह भारत के पंजाब, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, मध्य प्रदेश और राजस्थान में बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता था, लेकिन आज यह त्योहार भारत के कई अन्य राज्यों में भी मनाया जाता है। यह त्योहार हिंदू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चौथी तिथि को मनाया जाता है।

यह पूजा विवाहित महिलाओं द्वारा अपने पति के लंबे जीवन और अच्छे स्वास्थ्य की कामना के लिए की जाती है। करवा चौथ दो शब्दों के मिश्रण से बना है, करवा जिसका अर्थ है मिट्टी का बर्तन यानी मिट्टी का छोटा बर्तन और चौथ का चौथा।

पूरे भारत में चौथी माता के कई मंदिर हैं, लेकिन राजस्थान के चौथ का बरवाड़ा गाँव में स्थित माँ का चौथा मंदिर बहुत अच्छी तरह से प्रशिक्षित है। इस गाँव का नाम बरवाड़ा था, लेकिन यहाँ स्थित चौथे मंदिर के कारण इसे चौथे का बरवाड़ा नाम दिया गया। इस मंदिर का निर्माण भीमसिंह चौहान ने करवाया था।

करवा चौथ व्रत की पूजन विधि

करवा चौथ की आवश्यक संपूर्ण पूजन सामग्री को एकत्र करें।

  1. व्रत के दिन प्रातः स्नानादि करने के पश्चात यह संकल्प बोलकर करवा चौथ व्रत का आरंभ करें- ‘मम सुखसौभाग्य पुत्रपौत्रादि सुस्थिर श्री प्राप्तये करक चतुर्थी व्रतमहं करिष्ये।
  2. पूरे दिन निर्जला रहें।
  3. दीवार पर गेरू से फलक बनाकर पिसे चावलों के घोल से करवा चित्रित करें। इसे वर कहते हैं। चित्रित करने की कला को करवा धरना कहा जाता है।
  4. आठ पूरियों की अठावरी बनाएं। हलुआ बनाएं। पक्के पकवान बनाएं।
  5. पीली मिट्टी से गौरी बनाएं और उनकी गोद में गणेशजी बनाकर बिठाएं।
  6. गौरी को लकड़ी के आसन पर बिठाएं। चौक बनाकर आसन को उस पर रखें। गौरी को चुनरी ओढ़ाएं। बिंदी आदि सुहाग सामग्री से गौरी का श्रृंगार करें।
  7. जल से भरा हुआ लोटा रखें।
  8. वायना (भेंट) देने के लिए मिट्टी का टोंटीदार करवा लें। करवा में गेहूं और ढक्कन में शक्कर का बूरा भर दें। उसके ऊपर दक्षिणा रखें।
  9. रोली से करवा पर स्वस्तिक बनाएं।
  10. गौरी-गणेश और चित्रित करवा की परंपरानुसार पूजा करें। पति की दीर्घायु की कामना करें।
  11. ‘नमः शिवायै शर्वाण्यै सौभाग्यं संतति शुभाम्‌। प्रयच्छ भक्तियुक्तानां नारीणां हरवल्लभे॥’
  12. करवा पर 13 बिंदी रखें और गेहूं या चावल के 13 दाने हाथ में लेकर करवा चौथ की कथा कहें या सुनें।
  13. कथा सुनने के बाद करवा पर हाथ घुमाकर अपनी सासुजी के पैर छूकर आशीर्वाद लें और करवा उन्हें दे दें।
  14. तेरह दाने गेहूं के और पानी का लोटा या टोंटीदार करवा अलग रख लें।
  15. रात्रि में चन्द्रमा निकलने के बाद छलनी की ओट से उसे देखें और चन्द्रमा को अर्घ्य दें।
  16. इसके बाद पति से आशीर्वाद लें। उन्हें भोजन कराएं और स्वयं भी भोजन कर लें।
  17. पूजन के पश्चात आस-पड़ोस की महिलाओं को करवा चौथ की बधाई देकर पर्व को संपन्न करें।

इस दिन महिलाएं पूरे दिन उपवास रखती हैं और सामग्री की पूजा करती हैं और उद्योग चंद्रमा को देखती हैं और अपना उपवास तोड़ती हैं। उपवास के दौरान महिलाएं पानी का सेवन भी नहीं करती हैं। महिलाएं इस व्रत को 12 से 16 साल तक करती हैं, जिसके बाद व्रत का उपयोग किया जाता है। कुछ महिलाएं इस घटना को आजीवन भी करती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *