कौआ पर निबंध – कौए से जुड़े रोचक तथ्य व जानकारी

information about crow in hindi
Written by Vikas Sahu

Essay on Crow in Hindi: एक कौवा एक चतुर पक्षी है, यह हमें अपने पर्यावरण को साफ रखने में मदद करता है क्योंकि यह एक सड़ा हुआ स्ट्रीट फूड है जो अपना भोजन खाता है। इसीलिए आज हम कौवे के बारे में निबंध जानकारी देंगे।

information about crow in hindi

information about crow in hindi

कौआ एक ऐसा पक्षी है जो दिखने में साधारण है लेकिन बहुत बुद्धिमान और चतुर है। कौआ सामान्यतः दुनिया के सभी प्रांतों में पाया जाता है। कवर का रंग काला है और इसके दो पैर और एक चोंच है। इसकी दो छोटी आंखें हैं। इसकी गर्दन का रंग ग्रे होता है।

कौवे की आवाज कठोर और कठोर होती है, जिसके कारण कुछ लोग इसे पसंद नहीं करते हैं। कौवा आमतौर पर अन्य कौवों के साथ घूमना पसंद करता है। यह छोटे-छोटे घोल बनाकर पेड़ों पर रहता है। इसका जीवनकाल लगभग 7 वर्ष है, लेकिन कुछ प्रजातियों का जीवन काल भी 14 वर्ष है।

  1. कौआ एक मध्यम आकार का पक्षी है।
  2. यह काले रंग का होता है, इसकी गर्दन भूरे रंग की होती है।
  3. इसके दो छोटे पैर होते हैं जो नुकीले पंजे होते हैं।
  4. कौवे की दो काली चमकीली आँखें होती हैं
  5. यह अन्य पक्षियों की तुलना में अधिक स्मार्ट है
  6. कौआ भोजन में सड़ी गली रोटी, माँस, मिठाई, पक्षियों के अंडे आदि खाता है।
  7. इसकी एक मजबूत काली चोंच है।
  8. इसकी आवाज बहुत कर्कश है।
  9. सड़ी गली वस्तुओं को खाने से कौआ पर्यावरण को स्वच्छ रखता है
  10. कौवे की प्रजाति दुनिया के हर देश में पाई जाती है

कौआ पर निबंध – Essay on Crow in Hindi

कौआ एक छोटा पर बुद्धिमान पक्षी होता है जो की पूरी दुनिया में पाया जाता है। जानिए कौवे से जुडी रोचक जानकारी के बारे में। कौवा एक काले रंग का पक्षी हैं जो उनकी बुद्धि और अनुकूलता के लिए जाने जाते हैं, और उन्हें उनके जोरदार, कठोर आवाज “कांव-कांव” के लिए भी जाने जाते हैं। Corvus जीनस में कौवे, Ravens And Rooks शामिल हैं। ये पक्षियां Corvidae परिवार का हिस्सा हैं।

कौवा का आकर

कौवा लंबाई में डेढ़ फुट का होता है। यह काफी काले रंग का होता है। इसके शरीर के किसी हिस्से में इसका कोई चमक नहीं होता है। इसके गर्दन में ग्रे पंख के पैच होते हैं। इसके दो छोटे पैर हैं जो Dis-Shaped के होते हैं। उनके शरीर के साथ कोई समरूपता नहीं होती है।

  • Height: 1 To 1.5 Feet
  • Length: 1.3 Feet To 1.5 Feet
  • Weight: 300 Gram To 2 Kg
  • Lifespan: आयु, 20 To 30 Years

दुनिया में सबसे लम्बी जीवन तक जीने वाला कौवा की आयु 59 Years थी। जंगल में औसतन इनकी Age 15 से 20 Years होती है और अगर पाला जाये और देखभाल की जाये तो 30 से 35 Years तक की जीवन जीते हैं।

कौवे की प्रजातीय – Types Of Crow

  • House Crow
  • Western Jackdaw
  • Rook
  • American Crow
  • Australian Raven
  • Fish Crow
  • White Necked Crow
  • Fan Tailed-Raven

कौवा की आदतें और आवास

इस पक्षी की उड़ानें बहुत अजीब होती हैं। यह आम तौर पर एक सीधी रेखा में उड़ाते हैं। यह पक्षी बहुत ही लालची प्रवृति की होती है। यह फल, मिठाई और मांस पर रहती है, इसके रास्ते में जो भी खाने की चीजे होती है यह उन सभी खाती है। सड़कों पर फेके जाने वाले खानों को यह पक्षी खाना ज्यदा पसंद करती है, इस तरह यह सफाई का काम भी करते हैं।

यह छोटी चोंच के साथ कीड़े, छोटी मछली और मेंढक को उठाती है और उन्हें अपना भोजन बनाती है। इसकी आंखों की दृष्टि अच्छी नहीं होती है। कौवा के सामान में दुनिया में कोई पक्षी चालाक नहीं है। कौवे बेहद बुद्धिमान पक्षि होते हैं।

वे अपनी समस्या सुलझाने के कौशल और अद्भुत संचार कौशल के लिए जाने जाते हैं। कौवे पूरी दुनिया में पाए जा सकते हैं। ये किसी भी परिस्तिथि में खुद को ढाल लेती हैं। यह पक्षी सभी तरह के मौसम को आसानी से समायोजन कर जाती है। परन्तु आज-कल कौवे की संख्या में काफी कमी आ गयी है, खास कर शहरों में, जो की एक चिंता का विषय है।

कौए का भोजन

कौवे Omnivorous होते हैं, और उनका आहार बहुत विविध होता है। वे लगभग कुछ भी खा लेते हैं कौवे छोटे जानवरों जैसे स्तनधारियों, उभयचर, सरीसृप, अंडे खाते हैं। वे कीड़े, बीज, अनाज, नट, फल, मॉलस्क, और यहां तक ​​कि अन्य पक्षियों को भी खाते हैं। कौवे को कचरा कचरा खाते हुए भी देखा जा सकता है।

कौआ की आवाज

कौवा की एक बहुत ही कठोर आवाज होती है। इसकी आवाज कान के लिए बहुत ही असहनीय होती है। ये “कांव-कांव” की आवाज निकालती हैं। कौवे सुबह होते ही शोर करना शुरू कर देते हैं। सुबह मुर्गे के बंगाने के तुरंत बाद ये शोर मचाना शुरू कर देते हैं। अगर देखा जाये तो इसके भी लाभ है, यह आलसी लोगों को देर तक सोने नहीं देता है।

मान्यताएं

कौवा एक बदसूरत पक्षी है, इसलिए, कोई भी तोतों, कबूतर या मोर की तरह उसे घरों में पालन करने के बारे में सोचता नहीं है। कौवा के बारे में लोगों के दिमाग में कई अंधविश्वास हैं। मध्य-दिन में कौवा के शोर करने को बुराई की भविष्यवाणी करने के लिए कहा जाता है।

ऐसा माना जाता है कि कौवा मृत्यु के देवता यम के दूतों का प्रमुख है। इसके बारे में यह कहा जाता है की कि उनके पूर्वजों की मृत्यु के बाद वे कौवे के रूप में आकर, मृत्यु की हर वर्षगांठ पर ‘पिंड’ में दिए गए भोजन को ग्रहण करते हैं। यदि कौवा इसे दिए गए भोजन को छूता नहीं है, तो उस दिन, यह “श्रद्धा” करने में कुछ दोष दिखाता है।

कौए से जुड़े रोचक तथ्य और जानकारी

  • सभी पक्षी प्रजातियों के बीच कौवे का शरीर के अनुपात में उसके पास सबसे बड़ा मस्तिष्क होता है। कौवा की मस्तिष्क शारीरिक रचना मनुष्यों के समान ही होती है।
  • कौवे बहुत ही सामाजिक होते हैं और इंसानों के साथ बहुत जल्दी घुल मिल जाते हैं। आम तौर पर, यह देखा गया है कि मनुष्यों द्वारा निपटाए गए भोजन को ये अपना भोजन बनाती हैं।
  • फसलों को नष्ट करने वाली कीटों को नियंत्रित करने की बात आती है तो वे बहुत उपयोगी साबित होते हैं।
  • अंटार्कटिका को छोड़कर इस ग्रह के हर महाद्वीप में कौवे मिल सकते हैं।
  • कौवे के याददाश्त शक्ति बहुत तेज होती है। कौवे व्यक्तिगत मनुष्यों के चेहरे को याद रख सकते हैं।
  • दोनों माता-पिता बच्चों का ख्याल रखते हैं और उन्हें खिलाने में मदद करते हैं।

निष्कर्ष:

जी हाँ दोस्तों, आपको आज की पोस्ट कैसी लगी, आज हमने आपको बताया कौआ पर निबंध और कौआ के बारे में जानकारी बहुत आसान शब्दों में, हमने आज की पोस्ट में भी सीखा।

आज मैंने इस पोस्ट में Essay on Crow in Hindi सीखा। आपको इस पोस्ट की जानकारी अपने दोस्तों को भी देनी चाहिए। वे और सोशल मीडिया पर भी यह पोस्ट ज़रूर साझा करें। इसके अलावा, कई लोग इस जानकारी तक पहुंच सकते हैं।

यदि आप हमारी वेबसाइट के नवीनतम अपडेट प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको हमारी Sahu4You वेबसाइट सब्सक्राइब करना होगा।

नई तकनीक के बारे में जानकारी के लिए हमारे दोस्तों, फिर मिलेंगे ऐसे ही नई प्रौद्योगिकी की जानकारी के बारे में, हमारी इस पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद, और अलविदा दोस्तों आपका दिन शुभ हो।

About the author

Vikas Sahu

मैं एक पेशेवर ब्लॉगर हूँ, इस ब्लॉग पर आप उन लेखों को पढ़ेंगे जिनसे आप अपना करियर और पैसा दोनों ऑनलाइन ब ना सकते हैं.. read more