पायरेटेड विंडोज और ओरिजिनल विंडोज क्या है?

दोस्तों आप जब भी बाजार में कोई नया Laptop खरीदने जाते है तो आपको वँहा 2 तरह के Laptop देखने को मिलते है एक Laptop तो वो होता है जिसमे Orignal Window पहले से Install होती है और दूसरा वह होता है जिसमे DOS या Linux Operating System होता है। दोस्तो Microsoft का Operating System Paid होता है और यह DOS Laptop से 3K-4K तक महंगा होता है।

Pirated Window Vs Orignal Window Kya Hai
Pirated Window Vs Orignal Window Kya Hai

दोस्तो अगर आप एक Basic User है तो आपके लिए Window Operating System ठीक है हम कई बार इस बारे में जरूर जानना चाहते है कि Orignal Window में ऐसा क्या है जो Copy Window में नही है और आज हम इसी के बारे में चर्चा करेंगे कि Pirated Window और Orignal Window क्या है और Pirated Window और Orignal Window में क्या अंतर है।

Pirated Window क्या है?

Pirated Window को चोरी किया गया Operating System भी कहा जा सकता है। यह Orignal की एक Copy होती है। यदि आप इसे बाजार में खरीदने के लिए जाते है तो आपको यह Rs.100-200 कीमत के बीच मिल जायेगी अगर आप यह दुकानदार से Install करवाते है तो भी आपको Pirated ही मिलती है। Pirated Window बिना License Key के होती है।

Orignal Window क्या है?

Orignal (Genuine) Window Microsoft द्वारा Developed की जाती है इसे हम Activate Window भी कहते है। Orignal Window में आपको Company की तरफ से Support मिलती है यदि आप OEM Based कोई Company का Laptop खरीदते है तो आपको उस Company की तरफ से Support मिलती है इसमें आपको समय-समय पर Window Updates मिलती रहती है।

Pirated Window Vs Orignal Window में क्या अंतर है

मैं यँहा आपको कुछ ऐसे मुख्य अंतर बताऊंगा जिससे आप आसानी से समझ सकते कि इन दोनों में क्या अंतर है और आपको इसमें कौन-सी इस्तेमाल में लानी चाहिए।

 1.Price

Pirated Window आपको Free में ही मिल जाती है क्योंकि यह एक Copy होती है दूसरी तरफ Orignal Window आपको Free में आपको नही मिलती है यदि आप एक Retail Window खरीदते है तो आपको वह 7K-10K की कीमत के बीच में मिल जायेगी। अगर आप Window Based Laptop खरीदते है तो वह आपको DOS के मुकाबले 3K-4K महंगा मिलेगा।

 2.Support

Pirated Window में आपको किसी भी तरह की Support में नही मिलती है जबकि दूसरी तरफ आपको Orignal Window में आपको अलग से Support भी मिलती है इसमें आपको Window Updates भी मिलते रहते है।

 3.Security और Privacy

Pirated Window हमेशा ही Unsecure होती है क्योंकि यह उसके द्वारा बनाई जाती है जो एक Hacker होता है जो कि Software को Crack करता है वह चाहे तो अपना कोई Code या File भी उस Window में डाल सकता है जिससे वह आपके System को Remotly Control भी कर सकता है। Orignal Window Secure होती है इसमें आपकी Privacy को खतरा नही होता है क्योंकि यह Microsoft द्वारा दी जाती है। यदि आप इसमें कोई Anrivirus का इस्तेमाल करते है तो वह भी अच्छे तरीके से काम करता है।

 4.Speed

Pirated System की Speed कम होती है इसके Corrupt और Crash होने के ज्यादा मौके होते है जबकि दूसरी तरफ अगर आप Orignal Window का इस्तेमाल करते है तो आप उसे ज्यादा समय तक बिना परेशानी के चला सकते है और इसकी Speed भी Pirated से ज्यादा होती है।

दोस्तो आपको पता चल ही गया होगा कि Pirated Window के क्या नुकसान है यदि आप Business जैसे कोई काम करना चाहते है जो कि आप Pirated Window पर करते है तो यह आपके लिए बिल्कुल भी Secure नही है यदि आप कोई Games या Music जैसी चीजें करना चाहते है तो आप Pirated Window का इस्तेमाल कर सकते है।

यदि आपको इस ओरिजिनल विंडोज VS पायरेटेड विंडोज में क्या अंतर है से संबंधित कोई अन्य जानकारी लेना चाहते है तो आप हमें नीचे Comment में भी पूछ सकते है।

Default image
Vikas Sahu
मैं एक पेशेवर ब्लॉगर हूँ, इस ब्लॉग पर आप उन लेखों को पढ़ेंगे जिनसे आप अपना करियर और पैसा दोनों ऑनलाइन ब ना सकते हैं.. read more

Leave a Reply