सामान्य ज्ञान

पढ़ाई में मन कैसे लगाये? Best Ideas to Concentrate on Studies

How to Concentrate on Studies – कुछ समय बाद हमारी परीक्षा होने वाली है, और अब हम पढाई करना चाहते हैं। लेकिन हमें कुछ नहीं हो पा रहा है। दोस्तों किसी भी काम को करने के लिए और उसमे खरा उतरने के लिए हमको एक बहुत ही छोटे से शस्त्र की जरुरत पड़ती है। वह है, वृत्ति यानि एकाग्र जो एक बहुत ही अच्छा हथियार है।

How to Concentrate On Studies

How to Concentrate On Studies

यदि आप किसी कलाकार को देखागे तो आप समझ जायेंगे की उसकी पूरी शक्ति और एकाग्रता केवल अदाकारी में लगी है। इसके अलावा वह लोगो के बीच में सराहनीय है और अगर आप अभिभावक है तो आपके बच्चे को ये शिकायत जरूर करनी पड़ेगी की “मेरा मन पढाई में कोई लग रहा है। मै क्या करूँ? पढ़ता हू तो भी कुछ याद नहीं रहता है” तब तक आपके पास कोई उत्तर नहीं रहता है।

अगर आपका साथ भी यही हो रहा है, तो आप एक दम सही जगह पर आये होंगे, आज हम आपको पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करने का तरीका, How to Concentrate Mind on Studies? पढाई में ध्यान कैसे लगाये? यह बताने वाले है।

मन की एकाग्रता क्या है? (Concentrate on Studies)

एकाग्रता केवल एक शब्द ही नहीं, अपितु अपने आप में एक साधना भी है। क्योंकि इसका मतलब होता है, किसी कार्य में आपका मन और मष्तिक दोनों साथ में कार्य करना और आपको पता है की आप इस दुनिया में कंही भी चले जाएं और यह सोचे की मैं यंहा पर एकाग्रचित होकर काम कर सकता हूं तो शायद यह गलत नहीं है। क्योंकि सभी जगह पर कुछ ऐसी चीजे उपस्थित रहती है जो आपके मन को विचलित करेंगी और आपकी एकाग्रता को भी स्पष्ट करने की कोशिश करेंगी संस्कृत में कहा गया है।

तप: सु सर्वेषु चित्तं तप:

अर्थात: -सुही तप में उग्र तपस्या (ध्यान) है। जीवन का कोई भी कार्य बिना ध्यान केंद्रित किए नहीं किया जा सकता है। वह कार्य चाहे जितना छोटा क्यों न हो। एक उदाहरण के बारे में बात करते हैं:

कभी किसी मूर्तिकार को मूर्ति बनाकर देखा गया है आपने, उसका मन, हृदय, उसकी आँखों सभी उस मूर्ति में विलीन होते हैं, मूर्ति बनाते समय उसे कुछ और न तो सुनाई देता है, न दिखाई देता है और फलस्वरूप एक ऐसी मूर्ति उभर कर आती है। जिसे देखते ही हम मंत्र मुग्ध हो जाते हैं। इस उदाहरण द्वारा आप भली भाँती समझ गए होंगे कि एकाग्रता (एकाग्रता) क्या है।

बहुत से लोगों को लगता है कि भक्ति या योग साधना द्वारा केन्द्र प्राप्त की जा सकती है। बिना एकाग्रता पर ध्यान दिए वह कुछ समय तक भक्ति और योग करते रहते हैं और उसके पश्चात पछताते कि सब करके देख लिया लेकिन अपने मन को किसी एक ओर एकाग्र नहीं कर पाया।

ध्यान का महत्व (Importance of Concentration)

एकाग्रता एक ऐसी चीज है। या ऐसी कोई शक्ति है जिससे आप बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं। अक्सर देखा जाता है कि हम कुछ काम कर रहे होते हैं और कुछ आवाज कंपनी की तरफ से आती है। जो हमारे मन और हमारे मन को विचलित करता है।

इस सब के बाद, आप अभी भी अपने काम में लगे हुए हैं लेकिन आप उस काम की ओर केंद्रित नहीं हैं, तो आप इस बात से संतुष्ट नहीं होंगे कि आपका काम सही तरीके से हुआ है और अगर आप किसी भी काम को पूरी एकाग्रता के साथ करने की क्षमता रखते हैं। इसलिए आप हर जगह अपना काम कर सकते हैं और आप सफल भी होंगे।

यदि एक बार आपके मन में एकाग्रता है, तो आप किसी भी स्थान से विचलित हुए बिना अपने कार्यों को पूरी तरह से कर सकते हैं। आपका काम कहीं भी बाधित नहीं होगा, चाहे आप इसे यातायात में पूरा करें या रिश्तेदारों के बीच बैठें।

एकाग्रता बढ़ाने के लिए कदम।

आप यह तो जानते ही हैं की हमारा मन बहुत चंचल जो एक जगह ठहरता ही नहीं है, जब तक हमारा मन शांत है तो कोई भी नहीं है। तब तक समेकित होना असंभव है। इसलिए हमको छोटी छोटी बातें जो हमारे मन को शांति दे उसको जरूर करना चाहिए जैसे आपको गुस्सा, भय, द्वेष आदि से बचना चाहिए।

आपको अपने मन को शांत करने के लिए तनाव मुक्त करने वाले संगीत गीत सुनने चाहिए, सुबह के समय किसी हरी भरी जगह व्यायाम करने से या पार्कों में टहलने से भी मन को अत्यधिक सुकून की प्राप्ति होती है।

एकाग्रता बढ़ाने के कुछ उपाय

बढ़ाने के कुछ महत्वपूर्ण बिंदु के लिए कुछ टिप्स जो नीचे है उन्हें देख सकते हैं उनका उपयोग कर सकते हैं।

  • अपने घर में किसी जगह पर एक केंद्र बिंदु बनायें और उसकी ओर ध्यान केन्द्रित करें।
  • यह विधि अपनाते समय आरम्भ में आपका ध्यान कई बार टूटता है फिर धीरे धीरे स्थिरता प्राप्त होगी | ध्यान केन्द्रित करने का समय धीरे धीरे बढ़ाएँ | वैज्ञानिक शोधकर्ताओं द्वारा भी यह विधि प्रमाणित है | इससे यकृत (एकाग्रता पावर) बढ़ाने में सहायता मिलेगी और यह आपकी स्मरण शक्ति (मेमोरी पावर) को भी बढ़ाएगा।
  • जल्दी ही उठकर मैडिटेशन (ध्यान) करने से भी आपका मन शांत रहेगा और आपको ध्यान बढ़ाने में मदद मिलेगी।
  • एकाग्रता बढ़ाने के लिए यह अति आवश्यक है आपका मन गुस्सा से रहित हो, क्योंकि क्रोधी मन कभी एकाग्र नहीं हो सकता है।
  • एक ही समय में कई काम करने से आप कभी एकाग्रता से कार्य नहीं कर रहे हैं | आपको चाहिए कि एक समय में एक ही कार्य करें, उसी के बारे में विचार करें और हर कार्य के लिए अलग अलग समय सुनिश्चित करें।
  • एकाग्रता के लिए एक और महत्वपूर्ण आवश्यकता होती है – भरपूर नींद | आपको एक अच्छी नींद के बाद सावधान से काम करने की ताकत मिलती है और मन भी तनाव रहित व शांत रहता है, जो एकाग्रता (एकाग्रता) के लिए अत्याचार परिवर्तन है।
  • अनुशासन भी एकाग्रता के लिए अत्यंत आवश्यक है | आप समय निर्धारित करें कि इस समय में आपको काम करना है, हो सकता है कि कुछ समय तक आपका ध्यान भटकता रहा, लेकिन कार्य पूरे होने से पहले या निर्धारित समय से पहले आप नहीं उठेंगे। कुछ दिनों में आप महसूस करेंगे कि आपका ध्यान धीरे धीरे उस ओर केन्द्रित (फोकस) रखा जा रहा है।

छात्रों के लिए एकाग्रता युक्तियाँ

अगर हम केवल छात्रों की बात करें तो उनका मन सबसे ज्यादा तब विचलित होता है जब परीक्षा को होने को सिर्फ दो या तीन महीने बचाते है तब वह परीक्षा के नाम से भी घबरा जाती है, इसलिए छात्रों को चाहिए कि वह एक समय पर (समय) तालिका) जिसमें वह पढने का समय सुनिश्चित करेगा।

  • पहले आप दिन में दो घंटे का समय केवल पढने के लिए निर्धारित करें।
  • अपना भोजन ग्रहण कर और पानी पीकर बैठे ताकि आपको उठने की आवश्यकता न पड़े।
  • शांत वातावरण को चुनें और मोबाइल फ़ोन डब्ल्यू टेलीविज़न से दूर रहे।

हो सकता है कि ये उपाय आरम्भ में आपको परेशान करे और आपका मन पढ़ाई (अध्ययन) में न लगे पर वहीँ बैठे रहे। चाहे कितनी ही चीजें आपके मन को विचलित कर रही हों पर आप प्रयत्न करते हैं कि आपका ध्यान किताबों में लग सके। कुछ ही दिनों में आपको उस समय में पढने की आदत पड़ जाएगी और आपका मन भी उस चीज़ को स्वीकार कर लेगा। तत्पश्चात पढने के समय को धीरे धीरे बढ़ाते हैं।

निष्कर्ष: आपको यह ज़रूर पता होना चाहिए बिना निष्पक्षता के किसी भी परीक्षा में उत्तीर्ण होना असंभव है, इसलिए अच्छे अंक से पास होने के लिए आपके मन का एकाग्र होना जरुरी है, जो भी व्यक्ति अपने हर कार्य को एकाग्रता से ही करता है, उसे। फिर चाहे लोग उसकी प्रशंसा करें या निंदा, वह अपने कार्य को आत्मविश्वास (आत्मविश्वास) से तब तक करता है जब तक वह पूर्ण नहीं होता है। चाहे पढ़ाई हो, बड़ा व्यापार हो, रस्सी पे चलने जैसा करतब दिखाना हो या मिट्टी के बर्तन बनाना हो, कोई भी कार्य केंद्र (एकाग्रता) के बिना असंभव ही प्रतीत होता है। अगर आप छोटी छोटी चीजों को पूरी एकाग्रचित होकर करते है तो बड़े बड़े चीजे बड़ी आसानी से कर सकते है।

स्टडी पर ध्यान केंद्रित करने के लिए पढाई में ध्यान कैसे लगाये? की यह जानकारी आपको कैसी लगी? आपका कोई सवाल नहीं? या सुझाव हो तो पृष्ठ टिप्पणी करें।

About the author

Vikas Sahu

मैं एक पेशेवर ब्लॉगर हूँ, इस ब्लॉग पर आप उन लेखों को पढ़ेंगे जिनसे आप अपना करियर और पैसा दोनों ऑनलाइन ब ना सकते हैं.. read more

Leave a Comment