जब भी बाजार में कोई नया Laptop खरीदने जाते है तो आपको वँहा 2 तरह के Laptop देखने को मिलते है , एक Laptop तो वो होता है जिसमे Original Windows पहले से Install होती है और दूसरा वह होता है जिसमे DOS या Linux Operating System होता है।

Microsoft का Operating System के पैसे लगते है और यह DOS Laptop से 3K-4K तक महंगा होता है।

Pirated Window Vs Orignal Window
Pirated Windows Vs Original Windows

अगर आप एक Basic User है तो आपके लिए Windows Operating System ठीक है हम कई बार इस बारे में जरूर जानना चाहते है कि Original Windows में ऐसा क्या है जो Copy Windows में नही है और आज हम इसी के बारे में चर्चा करेंगे कि Pirated Windows और Original Windows क्या है और Pirated Windows और Original Windows में क्या अंतर है।

किसी भी Mobile और Computer को Run करने के लिए Operating System की जरुरत होती है और Windows , Dos , Unix , Linux यह सभी लोकप्रिय Operating System जो की सभी अपने कंप्यूटर और लैपटॉप में उपयोग करते है और नोर्मल्ली PC में ज्यादातर Windows Operating System इस्तेमाल किया जाता है पर जब आप बाज़ार से New Laptop और Desktop खरीदने जाते है तो Windows Based और DOS Based Laptop मिलते है.

Pirated Windows क्या है?

Pirated Windows को चोरी किया गया Operating System भी कहा जा सकता है। यह Original की एक Copy होती है। यदि आप इसे बाजार में खरीदने के लिए जाते है तो आपको यह Rs.100-200 कीमत के बीच मिल जायेगी अगर आप यह दुकानदार से Install करवाते है तो भी आपको Pirated ही मिलती है। Pirated Windows बिना License Key के होती है।

Original Windows क्या है?

Orignal (Genuine) Windows Microsoft द्वारा Developed की जाती है इसे हम Activate Windows भी कहते है। Original Windows में आपको Company की तरफ से Support मिलती है यदि आप OEM Based कोई Company का Laptop खरीदते है तो आपको उस Company की तरफ से Support मिलती है इसमें आपको समय-समय पर Windows Updates मिलती रहती है।

Pirated Windows Vs Original Windows में क्या अंतर है

पायरेटेड विंडोज क्रैक्ड विंडो है जो कई अवैध साइटों पर ऑनलाइन पाई जा सकती है जिसे आप मुफ्त में इंस्टॉल और इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन यह अवैध है।

ऑरिजिनल विंडोज वह विंडोज है जिसे माइक्रोसॉफ्ट द्वारा बेचा जाता है आपको इसका इस्तेमाल करने के लिए इसे खरीदना चाहिए। पायरेटेड विंडोज में वायरस या मैलवेयर हो सकते हैं और ऑरिजिनल विंडो पूरी तरह से सुरक्षित होती है।

प्राइस का फ़र्क

Pirated Windows आपको Free में ही मिल जाती है क्योंकि यह एक Copy होती है दूसरी तरफ Original Windows आपको Free में आपको नही मिलती है यदि आप एक Retail Windows खरीदते है तो आपको वह 7K-10K की कीमत के बीच में मिल जायेगी। अगर आप Windows Based Laptop खरीदते है तो वह आपको DOS के मुकाबले 3K-4K महंगा मिलेगा।

सपोर्ट और समर्थन

Pirated Windows में आपको किसी भी तरह की Support में नही मिलती है जबकि दूसरी तरफ आपको Original Windows में आपको अलग से Support भी मिलती है इसमें आपको Windows Updates भी मिलते रहते है।

सिक्यरिटी के आधार पर

Pirated Windows हमेशा ही Unsecure होती है क्योंकि यह उसके द्वारा बनाई जाती है जो एक Hacker होता है जो कि Software को Crack करता है वह चाहे तो अपना कोई Code या File भी उस Windows में डाल सकता है जिससे वह आपके System को Remotely Control भी कर सकता है। Original Windows Secure होती है इसमें आपकी Privacy को खतरा नही होता है क्योंकि यह Microsoft द्वारा दी जाती है। यदि आप इसमें कोई Antivirus का इस्तेमाल करते है तो वह भी अच्छे तरीके से काम करता है।

स्पीड के आधार पर

Pirated System की Speed कम होती है इसके Corrupt और Crash होने के ज्यादा मौके होते है जबकि दूसरी तरफ अगर आप Original Windows का इस्तेमाल करते है तो आप उसे ज्यादा समय तक बिना परेशानी के चला सकते है और इसकी Speed भी Pirated से ज्यादा होती है।

आपको पता चल ही गया होगा कि Pirated Windows के क्या नुकसान है यदि आप Business जैसे कोई काम करना चाहते है जो कि आप Pirated Windows पर करते है तो यह आपके लिए बिल्कुल भी Secure नही है यदि आप कोई Games या Music जैसी चीजें करना चाहते है तो आप Pirated Windows का इस्तेमाल कर सकते है।

नया Laptop या Desktop खरीदने जाते है तो आप एक चीज के बारे मे जरूर सुनते है कि इस Laptop या Desktop के साथ आपको Genuine Windows मिलती है या फिर ये Laptop या Desktop DOS Ya Linux के साथ आता है ऐसे में आपको पता होना चाहिए की दोनों में फर्क क्या होता हो और आपके लिए कोंसी Windows अच्छी है तो मुझे लगता है यह लेख आपके लिए महत्वपूर्ण साबित होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

One Comment

  1. gjab ki baat bhai sahi knowledge he tumko to