Rashtragaan Jana Gana Mana, यहां पढ़िए पूरे लिरिक्स

foryou

January 12, 2024 (4mo ago)

भारत का राष्ट्रगान "Jana Gana Mana" रवीन्द्रनाथ टैगोर द्वारा रचित बांग्ला कविता संग्रह "Gitanjali" से लिया गया है। जन गण मन की पंक्तियाँ गीतांजलि की एक कविता "तत्त्वबोध" से ली गई हैं। इस कविता को टैगोर ने जनवरी 1905 में लिखा था।

जब 1911 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में राष्ट्रगान के लिए प्रतियोगिता आयोजित की गई थी, तब टैगोर के दोस्त और राष्ट्रवादी कवि अनंतमोहन दास ने "Jan Gan Man" नामक कविता प्रस्तुत की थी।

इस कविता में गीतांजलि की "तत्त्वबोध" कविता की पंक्तियों का इस्तेमाल किया गया था। अतः भारत के राष्ट्रगान की पंक्तियाँ मूल रूप से रवीन्द्रनाथ टैगोर की कलम से निकली हैं।

राष्ट्रगान के नियमों का पालन नहीं करने और राष्ट्रगान का अपमान करने वाले व्यक्ति के खिलाफ राष्ट्रीय सम्मान के अपमान निवारण अधिनियम- 1971 की धारा-3 के तहत कार्रवाई की जाती है।

Rashtragaan Full Lyrics in Hindi

बेसेंट थियोसोफिकल सोसाइटी की प्रिंसिपल और कवि जेम्स एच. कजिन्स की पत्नी मार्गरेट ने राष्ट्रगान के अंग्रेजी अनुवाद के लिए संगीतमय संकेतन तैयार किए।

जन-गण-मन अधिनायक जय हे, भारत भाग्य विधाता! पंजाब-सिंध-गुजरात-मराठा, द्राविड़-उत्कल-बंग विंध्य हिमाचल यमुना गंगा, उच्छल जलधि तरंग तव शुभ नामे जागे, तव शुभाशीष मागे गाहे तव जय गाथा। जन-गण-मंगलदायक जय हे, भारत भाग्य विधाता! जय हे! जय हे! जय हे! जय जय जय जय हे!

बंगाली और देवनागरी लिपि में

জনগণমন-অধিনায়ক জয় হে ভারতভাগ্যবিধাতা! পাঞ্জাব সিন্ধু গুজরাট মারাঠা দ্রাবিড় উৎকল বঙ্গ বিন্ধ্য হিমাচল যমুনা গঙ্গা উচ্ছলজলধিতরঙ্গ তব শুভ নামে জাগে, তব শুভ আশিষ মাগে, গাহে তব জয়গাথা। জনগণমঙ্গলদায়ক জয় হে ভারতভাগ্যবিধাতা! জয় হে, জয় হে, জয় হে, জয় জয় জয় জয় হে॥

Jana Gana Mana with English Lyrics

Thou art the ruler of the minds of all people, Dispenser of India’s destiny. The name rouses the hearts of Punjab, Sindh, Gujarat, and Maratha, Of the Dravid and Orissa and Bengal; It echoes in the hills of the Vindhyas and Himalayas, Mingles in the music of the Yamuna and Ganga And is chanted by the waves of the Indian Sea. They pray for thy blessings and sing thy praise. The salvation of all people is in thy hand, Thou dispenser of India’s destiny. Victory, victory, victory to thee.

Also Read:

Enjoy this article? Feel free to share!

Gradient background