टमाटर की खेती कैसे करें, Tomato Farming Business

टमाटर की खेती कैसे होती है। अगर आप वैज्ञानिक तरीके से टमाटर की खेती करते है तो आपको कम लगत में काफी मुनाफा हो सकता है। आज के युग में किसान टमाटर की खेती कर के लाखों में कमा रहे हैं और आत्मनिर्भर है।

यदि आप भी टॉम का व्यवसाय और खेती की जानकी जानना चाहते हैं तो आपको यहां पर विस्तार के बारे में जानकारी दी जाएगी। नीचे पूरी टॉम उगन से ले कर, उनमे होने वाली बिमारियों से बचाने की पूरी जानकारी दी गई है।

Tomato Farming Business Kaise Kare
Tomato Farming Business Kaise Kare

तो चलिए जानते हैं कि किस तरह से टमाटर की अच्छी तरह से खेती और व्यापर किया जाना चाहिए।

टमाटर की खेती कैसे होती है?

सबसे पहले आपको यह मालूम करना होगा कि आप कितनी टमाटर उगाना चाहते हैं और आपके पास बहुत जमीन उपलब्ध है। उसी के अनुसार आपको खाद, दवाई, मेहनत और समय देना होगा।

वैसे तो टमाटर के व्यवसाय में काफी कम मेहनत लगती है लेकिन इसमें आपको अपना कीमती समय दे कर बिच बिच में निरसन करना होगा ताकि अच्छी पैदावार हो और आमदनी भी अच्छी हो।

तो चलिए जाने जा रही है टमाटर की उन्नत खेती की प्रकार की जाती है जिससे आप कम समय में ज्यादा का मुनाफा निकाल सको व टमाटर के व्यापार से लेकर, हर एक जानकारी जो आपको पता होना जरुरी है:

टमाटर में होने वाली बीमारियाँ

नीचे आप उन रोग तथा टमाटर की बीमारियों के बारे में जानोगे जो टमाटर की खेती को नष्ट कर सकती है, ऐसे में आपको in बिमारियों के बारे में सामान्य ज्ञान होना अति-आवश्यक है:

अर्धपतन –

वैसे हर व्यवसाय और खेती में कुछ न कुछ रूकावटे होती है, जैसे टमाटर के खेतो में बीमारी होनी चाहिए जिसे अर्धपतन जो की खास करने के मौसम में होता है।

इस बीमारी के होने पर मिट्ट और टमाटर में फफूंद (फंगस) लग जाता है और टमाटर पूरा ख़राब हो जाता है। इसके अलावे कई तरह के अन्य बिमारियों से लगभग जोड़ा जा सकता है।

इसके साथ यह जल्द फैलने वाली बीमारी होती है जिसे रोकने के लिए उचित इंतजाम करना जरुरी है।

अर्धपतन का उपचार:

  • इस बिमारी को रोकने के लिए Formaldehyde का उपयोग किया जाता है, जिससे टमाटर में होने वाली बिमारियों को रोका जा सकता है।
  • 50 लीटर पानी में 1 लीटर Formaldehyde को ले कर मिला लें और इसे टॉम लगाने के पहेले अपने खेतों में आवश्यकता के अनुसार इसके छिडकाव कर लें।
  • इस तरह से छिड़काव करे की तो खेतो में 7 से 10 सेंटीमीटर तक गहरे तक यह भी होगा। और इसे प्लास्टिस शीट से ढक कर 2 से 3 दिन के लिए छोड़ दें।

और उसकी बात मिटटी को उलट पलट कर के अगले दो दिनों तक छोड़ दे और फिर टमाटर के पौधे लगाने शुरू करें। ऐसा करने से ठंड के मौसम में होने वाली फफूंद से बचा जा सकता है। अधिक जानकी के लिए आप नजदीकी कृषि विभाग में जा कर मिले।

इसके अलावा एक और तरह की बीमारी होती है जिसमे टमाटर के पौधे अचानक से मुरझाने लगते है और सुख जाते हैं।अगर इस तरह का लक्षण दिखता है तो आप बेवास्तिन (Bavistin) का इस्तेमाल करे।

इसके लिए 2 ग्राम बेवास्तीन को 1 लीटर पानी में मिला कर सीधे टमाटर के जड़ के पास पानी डाले और थोडा ऊपर से छिडकाव करे। ऐसा करने से इस बीमारी से बचा जा सकता है।

पत्ते मरोड़ जाना (Leaf Curl) –

जैसा की बीमारी के नाम से ही जाना जा सकता है, इस बीमारी के होने पर टमाटर के पत्ते मुड़ने लगते है और थोडे झुक जाते हैं। अगर ऐसा हो रहा है तो समाज जाटों की टमाटर के पौधे में Leaf Curl नामक बीमारी हो गयी है।

ऐसा होने पर फौरन इस तरह के पौधे को हटा कर, खेत से दूर, मिटटी की अंदर दफ़न कर दें ताकि यह बीमारी दुसरे पौधे में ना फैले। अब Imidacloprid (17.8% Sl) दवा को लेकर (6 ग्राम मात्रा) 1 लीटर पानी में मिला दें और खेतों में छिडकाव करें।

किट्टा पतंग से बचाव –

टमाटर जब बढ़ने लगते हैं और उसमें टमाटर आने लगे तो किट पतंग और कीड़े टमाटर के तरफ आकर्षित होने लगते हैं और टॉम को नुकसान पहुंचते हैं। इसकी रोकथाम के लिए आप शुरू में ही हर 15 टॉम के पौधे के बाद 1 गेंदा के पौधे को लगाये।

जैसा की आपको पता है, गेंदा के फूल से कई तरह की दवा बनती है और यह कीड़े को आस पास आने से रोकता भी है। इसके अलावा खेत की बाउंड्री के पास भी हर 10 फिट पर एक गेंदा का पौदा लगा दें।

टमाटर के बीज

जब आप टमाटर के खेती करने जा रहे हैं तो कोशिश करें की आप Tomato Pusa 120 का ही बीज (बीज) लें ताकि आप ज्यादा से ज्यादा टमाटर की प्राप्ति हो। यह बीज बाजार में आसानी से उपलब्ध है।

tomato seed
tomato seed

150 से 175 ग्राम (ग्राम) हाइब्रिड टमाटर के बीज 1 हेक्टेयर (हेक्टेयर) खेत के लिए काफी है। इससे काफी अच्छी मात्र में टमाटर मिल सकते हैं।

टमाटर की खेती के लिए खेत तैयार करना

अब आप दो तरह से खेत तैयार कर सकते है, जो की निम्नलिखित हैं :

  1. सीधे समतल मैदान पर या सीडलिंग ट्रे पर उठी हुई क्यारी बना कर।
  2. इसके मिटटी को 10 से 15 इंच तक उचा उठा कर बनाया जाता है।
  3. कोशिश करे की टमाटर को कयारी को उचा बना कर ही लगवाए ताकि आपको नुक्सान कम हो और लाभ जायदा।
  4. इससे होने वाले टॉम भी निचे जमीन पर टिक नहीं पाएंगे और पानी से सड़ने का डर भी नहीं रहेगा।
  5. ध्यान रहे की इस पानी पर ज्यादा पानी नहीं होना चाहिए।
  6. इसमें खरपतवार भी कम उगते हैं और आपकी समय की भी बचत होगी।

लेकिन मैं आपको सलाह दूंगा कि आप टमाटर के पौधों को सीडिंग ट्रे पर ही तैयार करें, क्योंकि आप इसे कभी भी आसानी से ले सकते हैं, पौधे में कीड़े होने की संभावना कम होती है और पानी की कम जरूरत होती है।

टमाटर खेती के लिए खाद तैयार करे

अगर आप चाहते हैं की आपको टमाटर का अच्छा रेट मार्केट में मिला तो कोशिश करे की जैविक खेती (ऑर्गेनिक फार्मिंग) ही करे।

इसके लिए आपको केवल अच्छे खाद की आवश्यकता पड़ेगी जो की आप आसानी से बना सकते हैं। खाद बनाए की विधि नीचे दी गयी है:

  1. 1 हेक्टेयर में खेती करने के लिए आप 35 किलोग्राम गाय के गोबर को लें।
  2. अब इसे छायादार जगह में रखा जा रहा है। इसमें ट्राइकोडर्मा या स्यूडोमोनस नामक सूत्रीकरण को अच्छा कहा गया।
  3. अब इसे बोरे से ढक दें।
  4. यह हर 2 दिन ऊपर निचे पलटा करें।
  5. यह कुल 7 दिनों तक ही रखा गया और आपका आर्गेनिक खाद तैयार है।

इस जैविक खाद को टमाटर की नर्सरी के लगाने के 2 दिन पहले मिला दें ताकि टमाटर को जरुरी चीजो की आपूर्ति हो सके और अच्छा हो सके।

कैसे टमाटर की खेती शुरू करें?

अब आप टमाटर के नर्सरी को लगा कर उसकी अच्छी से देखभाल करें।

  • बीच-बीच में निरस्त कर के खरपतवार को निकाल दिया गया।
  • पौधों की हर 3 दिन में रद्द करना करें, किसी भी बीमारी को लक्षण दिखने पर उसे तुरंत उपचार की शुरुवात कर दें।
  • हो सके तो टमाटर के लावों को ऊपर की और टांग दे ताकि अच्छे टमाटर ख़राब ना हो, जैसे इस तस्वीर में दिखाया गया है:
  • समय के अनुसार सिचाई करते रहे ताकि टमाटर का पौधा सुख न हो, ध्यान रखे की ज्यादा भी पानी ना दें।
  • बीच-बीच में मिट्टी को जड़ के आस पास उलट-पुलट किया जाना सही है ताकि उसमें ऑक्सीजन की मात्रा अच्छी से पहुंच संभव हो और ज्यादा फल दें।

यह कम समय में अच्छा मुनाफा देने वाला व्यापर है जो की डेयरी फार्मिंग व्यवसाय के साथ आसानी से किया जा सकता है और लाभ में वृद्धि करने में मददगार साबित हो सकता है।

निष्कर्ष:

जी हाँ दोस्तों आपको आज की पोस्ट कैसी लगी, आज हमने आपको बताया कि Tamatar Ki Kheti Kaise Kare और Tomato Farming Ke Trike बहुत ही आसान शब्दों में हमने भी आज की पोस्ट में सीखा।

Tomato Farming Tips In Hindi आज मैंने इस पोस्ट में सीखा। आपको इस पोस्ट की जानकारी अपने दोस्तों को भी देनी चाहिए। तथा Social Media पर भी यह पोस्ट ज़रुर Share करे। इसके अलावा, कई लोग इस जानकारी तक पहुंच सकते हैं।

हमारी पोस्ट How to Start Tomato Farm In Hindi, आपको कोई समस्या नहीं है या आपका कोई सवाल नहीं है, हमें Comment Box में Comment करके इस पोस्ट के बारे में बताएं। हमारी टीम आपकी मदद जरूर करेगी।

यदि आप हमारी वेबसाइट के नवीनतम अपडेट प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको हमारी Sahu4You की Website को Subscribe करना होगा। नई तकनीक के बारे में जानकारी के लिए हमारे दोस्तों, फिर मिलेंगे आपसे ऐसे ही New Technology की जानकारी लेकर, हमारी इस पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद, और अलविदा दोस्तों आपका दिन शुभ हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *