Affiliate Marketing में पैसा कमाने के लिए आपको शुरुआत में बहुत मेहनत करनी होगी। लेकिन एक बार वफादार ग्राहकों को प्राप्त होने के बाद, आय आने लगती है।

एफिलिएट मार्केटिंग में अधिक पैसा कमाने के लिए, आपको Google Adsense की तरह लाखों दैनिक में ट्रैफ़िक की आवश्यकता नहीं है। आप कुछ अच्छे ग्राहकों से बहुत पैसा कमा सकते हैं। आइए एक उदाहरण से समझते हैं।

What is Affiliate Marketing in Hindi
What is Affiliate Marketing in Hindi

मान लीजिए कि आपकी साइट पर प्रतिदिन 500 का आवागमन होता है और महीने में 15,000 ट्रैफ़िक हो जाती हैं। यदि आप महीने के 1% Visitors को Customers में परिवर्तित करते हैं और आपको प्रत्येक बिक्री के लिए 1000 रुपये मिलते हैं, तो आपकी कमाई नीचे की Calculation के अनुसार होगी।

Conversion 15000×1%=150 Income

1000×150= 150000 (1.5 Lacs) Monthly

अब आप खुद ही समझते हो कि क्या आप Google Adsense से रोजाना 500 की Traffic पर इतना पैसा कमा सकते हो? बिल्कुल नहीं।

यह एक सपने की तरह लगता है लेकिन Internet पर बहुत से ऐसे Bloggers है जो महीने के हजारों Dollers कमा रहे हैं और जब उनको इतना पैसा कमाने का तरीका पूछोगे तो 10 मे से 8 Affiliate Marketing को ही उनका Main Income Source बताएगे।

जो Bloggers और Internet Marketers कई सालो से ऑनलाइन मार्केटिंग कर रहे हैं. वो सब एफिलिएट मार्केटिंग से होने वाली कमाई को अच्छी तरह से जानते हैं. Example के लिए नीचे Screenshot में देखे।

एफिलिएट मार्केटिंग क्या है
एफिलिएट मार्केटिंग क्या है

यह Shoutmeloud की फरवरी 2018 की आय रिपोर्ट हैं। यह आप देख ही सकते हैं कि 50% से ज्यादा की कमाई एफिलिएट मार्केटिंग से ही हुई हैं। जिससे साफ पता चलता है कि इससे कितना पैसा कमाया जा सकता है। पूरी पोस्ट यहाँ क्लिक करें पढ़ सकते हैं।

अब आप सोच रहे होंगे कि वह तो अंग्रेजी ब्लॉग है और बहुत लोकप्रिय भी है और मैं हिंदी या हिंग्लिश मे लिखता हूं। तो मैक आपको बताना चाहूँगा कि एक समय था जब लोग इंटरनेट पर हिंदी में खोज ही नहीं करते थे लेकिन आज देखो समय बदल गया है।

मै मानता हूँ कि हिंदी ब्लॉगिंग का मुख्य आय स्रोत Google विज्ञापन है। पर जल्दी ही वह समय भी आएगा जब सभी हिंदी ब्लॉगर्स एफिलिएट मार्केटिंग की ताकत को जान लेंगे और इसको ही पसंद करेंगे।

तो क्या आपको उस समय का इंतज़ार करना है या आप आप को पहले ही तैयार रखना है यह आप पर निर्भर हैं। मेरा तो यही मशविरा है कि समय यह जान लेने का है कि एफिलिएट मार्केटिंग क्या है और हिंदी ब्लॉगर इससे पैसा कैसे कमा सकते हैं।

एफिलिएट मार्केटिंग क्या है : What is Affiliate Marketing

एफिलिएट मार्केटिंग में नीचे लिखी 3 तरह के महत्वपूर्ण रिलेशनशिप (रिलेशनशिप) का तालमेल बहुत जरूरी है:

  • Merchant
  • Affiliate
  • Customer

1: Merchant और Seller

एक Merchant या Seller वो व्यक्ति होता हैं जो अपने Product को सेल करता हैं। यह Product Physical जैसे Furniture, घरेलू सामान या फिर कोई Online सर्विस जैसे Teaching भी हो सकता हैं।

2: Affiliate Marketer और Advertiser

एक Blogger होते हुए आप ही एफिलिएट Marketer या Advertiser होंगे. कोई जरूरी नहीं कि Affiliate Product की Selling सिर्फ़ Blog पर ही करे। इसके अलावा Email Marketing, गूगल या Facebook Ads चला कर या फिर Direct Affiliate Link Share करके Product Sell करवाना भी एफिलिएट मार्केटिंग का हिस्सा ही हैं।

3: Customer या Buyer

Buyer वो व्यक्ति होता है जो जो आपके Promote किए Products को खरीदता है। ये Email Marketing से इकट्ठा किये Ideal Customers भी हो सकते हैं और Ads चला कर प्राप्त हुए खरीदार भी हो सकते हैं।

एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कमाने के लिए आपके पास Customers का होना बहुत जरूरी है। अगर Customers नहीं है तो कोई Sale नहीं होगी और आपको ना ही Commission मिलेगा।

यह तो एफिलिएट मार्केटिंग में काम आने वाला महत्वपूर्ण टर्म एंड कंडीशंस था। महत्वपूर्ण इसके इलावा कुछ और महत्वपूर्ण बिंदु है जो आपको पता होना चाहिए।

1. Affiliate Manager: यह वह व्यक्ति होता है जो Merchant के Affiliate Program की देखभाल करते हैं अर्थात प्रबंधित होते हैं। और साथ में Product की बिक्री (Sale) बढ़ाने के लिए अवगत कदम उठाएं हैं।

2. Affiliate Link: जब कोई Affiliate Program को Join करता है तो उसे बिक्री Generate करने के लिए एक अद्वितीय लिंक दिया जाता है, जिसे Affiliate Link कहते हैं। इस सूची से Merchant और Advertiser को पता चलता है कि बिक्री कब और कितनी हुई है।

3. Affiliate Network: एक Affiliate Network Merchants और एफिलिएट मार्केटर्स के बीच में लिंक का काम करता है। जिसमें Proper Tracking System, Sales Reports Updates होते हैं, जिससे Advertiser अधिक से अधिक बिक्री बढ़ाने पर उचित कदम उठाने में मदद मिलती है।

4. Cloaking: Cloaking का मतलब होता हैं अपने Affiliate Links को छुपाना. क्यूूकि 99% Affiliate Links User-Friendly नहीं होते तो उन्हे Attractive बनाने के लिए Link Clocking की जाती हैं. Wo Self-Hosted WordPress पर आप Plugin की मदद से Links को Clock कर सकते हो।

Non-Cloaked Link: https://hostgator-India.sjv.io/xxxxx
Cloaked Link: https://sahu4you.com/go/hostgatorindia/

5. Commission: जब आपके Affiliate Link से कोई व्यक्ति किसी Product खरीदता हैं तो Merchant उसके बदले में कुछ पैसा देता हैं जिसे Commission कहते हैं।

6. CPA: CPA का मतलब होता है Cost Per Action जिसमे एफिलिएट Marketer को Email Singing Up या किसी Product की खरीद पर पैसा दिया जाता हैं. India में Instamojo (Payment Gateway) और ConvertKit (Email Marketing Tool) है जो SignUp के अच्छे पैसे देते हैं।

7. CPC: CPC का Full Form Cost Per Click होता है. जिसमे
आपको Ads पर Click के पैसे मिलते हैं गूगल एडसेंस इसी Strategy पर काम करता हैं।

8. Impression: Impressions का मतलब होता है कि एक Page पर आपकी Ad को कितनी बार दिखाया गया है।

9. CPM: CPM यानी Cost Per Mille (Thousand) में आपको 1000 Impression पर पैसे का लेनदेन करना होता है।

10. Landing Page: Affiliate Sales को बढ़ाने के लिए एक Special Page Create किया होता हैं. जिसे Landing Page कहते हैं।
उदहारण कि लिये WebCles का Deals और Hostgator India Coupons & Discount Page देख सकते हो।

11. PPC: PPC यानी Pay Per Click. Affiliate Links पर Click पर मिलने वाली Commission PPC Network का ही हिस्सा होती है।

12. SEO: SEO का Full Form Search Engine Optimization होता है. इसमें अपनी वेबसाइट या Webpages को किसी Specific Keywords पर Optimize करके Search Results (SERPs) में Higher Rank प्राप्त करना होता है।

13. Payment Mode: जिस माध्यम (Medium) जिसके द्वारा आपको आपकी Commission दी जायेगी। यह Cheque, Wire Transfer, PayPal दुबारा हो सकती हैं। अलग-अलग Affiliates Programs अलग-अलग Payment Methods Offer करते हैं।

14. Payment Threshold: हर Affiliate Program की अलग अलग Payment Threshold Policy होती है. इसमे वह न्यूनतम (Minimum) राशि निर्धारित की जाती हैं। जिसे जब आप Earn कर लेंगे तो आपको आपकी पूरी Payment की जायेगी।

Affiliate Programs कितनी तरह (Types) के होते हैं?

1. One Tier: जब आपके Affiliate Link से किसी एक Product Sale की होती हैं और आपको उसका एक बार ही Commission मिलता है। Web Hosting Affiliate Programs One Tier Type के होते है।

2. Two Tier: जब आप किसी दूसरे के Affiliate Program को Refer करके Sale करवाते हैं तो ऐसी स्थिति को Two Tier Marketing या Multilevel Marketing कहा जाता हैं. WP-Engine इसका सबसे बड़ा Example है।

3. Climbing Tier: इसमे Monthly Sales बढ़ने पर Commissions भी बढ़ता जाता हैं। Hostgator India Affiliate Program इसका सबसे बढ़ा Example है नीचे Screenshot में देखे।

4. Recurring Commissions: यह Automatic Earning का सबसे अच्छा तरीका है. जब आपको किसी Affiliate Product के Sign Up पर ही नहीं बल्कि महीने या साल के Renewal पर भी Commission मिले तो उसे Recurring Commissions कहते हैं। Aweber और ConvertKit Marketing Tools इसी तरह के Affiliate Program चला रही हैं।

5. Sitewide Commissions: जब कोई व्यक्ति आपके Affiliate Link Click करके Merchant की साइट पर कर है और वहां आपका Refer किया Product ना खरीद कर उसी साइट से कोई दूसरा Product या Service लेता हैं जिसका आपको पैसा मिलता हैं. बड़ी बड़ी E-Commerce Websites जैसे Amazon और Flipkart Sitewide Commission देती है।

6. Pay Per Lead: किसी Servay को पूरा करने Form Fill करवाने पर मिलने वाले पैसे को PPL या Pay Per Lead Commission कहा जाता है।

7. Cookies: Web Cookies वो Text File होती है जो कि सर्वर के द्वारा Browser को भेजी जाती है। और यह Files हर समय Browser के द्वारा वापस सर्वर पर भेजी जाती है ताकि वह सर्वर से जुडा रह सके। जब कोई व्यक्ति आपके Affiliate Link पर Click करके Merchant की Website पर जाता है पर कोई खरीद नहीं करता और किसी और दिन वो वही से Product Direct खरीद लेता हैं तब भी आपको Commission मिलता है। आम तौर पर Cookies का अंतकाल (Duration) 30 Se 90 दिन की होती हैं।

मुझे लगता है अब आपको एफिलिएट मार्केटिंग के बारे में जानकारी अच्छी तरह से पता चल गया होगा। तो अब चलिए आगे बढ़ेंगे और जानेगे इससे Income कैसे होगी।

Affiliate Marketing से पैसे कैसे कमाए?

अब आपको यह तो पता हैं कि एफिलिएट मार्केटिंग मे Products को Sale करवा कर पैसे कमाते हैं। लेकिन वो Product को Sale किसको करना है और कहा करना हैं यह तो अभी भी एक सवाल ही हैं।

दरअसल एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कमाने के लिए सबसे पहले आपके पास Website/Blog, YouTube Channel या Email Subscribers होने चाहिए ताकि आप Affiliate Products को Promote कर सको।

मेरे Experience के हिसाब से इसके लिए Blogging सबसे बढ़िया तरीका है। यहां आप Aweber या ConvertKit Mail Automation Tools से Email Marketing भी कर सकते हैं. वहीं Youtube पर ऐसे Advanced Features अभी Available नहीं हैं।

Sahu4You पर फिलहाल मैं Aweer Tool Use कर रहा हूं और मैं आपको भी यही Tool Recommend करूँगा. अगर आपको Website बनाना नहीं आता तो आप हमारी Free Blog Setup Service Se अपनी Blogging Start कर सकते हैं।

Affiliate Marketing से जुड़े सवाल जवाब

Q1: क्या एफिलिएट मार्केटिंग करने के लिए ब्लॉग या वेबसाइट होना जरूरी है?
Ans: नहीं, यह कोई जरूरी नहीं कि जरूरी नहीं हैं कि एफिलिएट मार्केटिंग शुरू करने के लिए आपका ब्लॉग या वेबसाइट हो। लेकिन आप Online अच्छे पैसे कमाना चाहते हैं तो मेरा सुझाव है कि आप अपना एक Self Hosted WordPress Blog बना लीजिए।
Q2: क्या एफिलिएट मार्केटिंग और Adsense Ads को एक साथ लगाया जा सकता है?
Ans: जवाब हैं Yes, आप एफिलिएट मार्केटिंग और Ad Networks को एक साथ Use कर सकते है।
Q3: एफिलिएट मार्केटिंग से कितना पैसा कमा सकते हैं?
Ans: आप एफिलिएट मार्केटिंग से हजारों, लाखों करोड़ रुपये कमाए सकते हो. मेरे Personal Experience से एफिलिएट मार्केटिंग, गूगल एडसेंस से कही बढ़िया हैं। बाकी यह Completely आप पर Depend करता है की आप कितने Visitors को Program की तरफ आकर्षित कर पाएं हैं और कितनी सेल्स Generate हुई।
Q3: एफिलिएट मार्केटिंग के बारे मे कहा से सीखे?
Ans: WebCles पर मै एफिलिएट मार्केटिंग से जुड़ी बहुत सी Posts लिखा. आप उनको पढ़ कर इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
Q4: आपके लिए कोन सा Affiliate Program Best रहेगा?
Ans: यहा पर आपको अपना दिमाग लगाना पढ़ेगा. आपको अपने Readers को पहचान कर उसी के हिसाब से Affiliate Program चुनाना पढ़ेगा. उदहारण कि लिये मैं अपने ब्लॉग पर Hosting, एफिलिएट मार्केटिंग और ईमेल मार्केटिंग के बारे मे लिखता हूँ इसीलिए में Hosting और Email Marketing Tools के Affiliate Programs को Join किया हुआ है।
Q5: India में कौन कौन सी Companies या Organizations Affiliate Programs Offer करती है?
Ans: आप जिस कंपनी Affiliate Program Join करना चाहते हो गूगल Search पर जाकर उस कंपनी का नाम के साथ ‘Affiliate’ Word के साथ सर्च करें।

मुझे आशा है कि अब आपको एफिलिएट मार्केटिंग से जुड़े सभी सवालों के जवाब मिल गए होंगे. लेकिन अगर फिर भी आपका कोई सवाल हो तो Comment Box मे जरुर पूछ लीजिए।

About Vikas Sahu

मैं एक पेशेवर ब्लॉगर हूँ, इस ब्लॉग पर आप उन लेखों को पढ़ेंगे जिनसे आप अपना करियर और पैसा दोनों ऑनलाइन बना सकते हैं।

Reader Interactions

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *