दिव्य मुक्ता वटी के फायदे, उपयोग और स्वास्थ्य लाभ

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on whatsapp

दिव्य मुक्ता वटी के फायदे (पतंजलि) दोस्तों क्या आप Divya Mukta Vati से जुडी जानकारी खोज रहे है जो की पतंजलि द्वारा बनाई गई है? जानिए इससे होने वाले फायदे और नुक्सान, कीमत और संरचना के बारे में।

Patanjali Mukta Vati in Hindi
Patanjali Mukta Vati Kya Hai in Hindi

मूल रूप से यह बाबा रामदेव जी की देखरेख में चलने वाली दिव्य फार्मेसी द्वारा निर्मित एक आयुर्वेदिक दवा है। यह एक एंटी-हाइपरटेंसिव और एंटीडिप्रेसेंट एलायंस दवा है, जो ब्लड यानि की ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करता है।

यह दवा रक्तचाप को कम करता है और तनाव संबंधी विकारों को रोकने में फायदेमंद होता है। इस वटी को राउल्फ़िया सर्पेंटिना और अन्य जड़ी-बूटियों के साथ मिला कर इसकी शक्ति को बढ़ाने के लिए इसे संसाधित किया गया है।

Patanjali Mukta Vati Tablet In Hindi

Divya Mukta Vati टैबलेट को बनाने के लिए जिन सामग्री का इस्तेमाल किया गया वे निम्नलिखित हैं।

प्रवाल पिष्टी – 6 मिलीग्राम
ओनोसमा ब्रेक्टेटम (गजानन) – 69 मिलीग्राम
एकोरस कैलमस (वचा) – 46 मिलीग्राम
सेलैस्ट्रस पैनिकुलटस (ज्योतिष्मती) – 19 मिलीग्राम
विथानिया सोमनीफ़ेरा (अश्वगंधा) – 46 मिलीग्राम
कन्वोल्वुलस प्लुरिकायुलिस (शंखपुष्पी) – 46 मिलीग्राम
मुक्ता पिष्टी (मोती पिष्टी) – 2 मिलीग्राम
तिनोस्पोरा कार्डी फोलिया (गुडूची या गिलोय) – 20 मिलीग्राम
सेंटेला एशियाटिक (ब्राह्मी) – 46 मिलीग्राम

Divya Mukta Vati के उपयोग और स्वास्थ्य लाभ

अगर इस टैबलेट को डॉक्टर की सलाह और सही देख रेख में लिया जाए तो इसके कई फायदे हैं। आइये जानते है इस मुक्त वती से जुडी लाभ के बारे में विस्तार से:

मुक्ता वटी अवसाद (Depression) में फायदेमंद होता है और मानसिक विकार और चिड़चिड़ापन को शांत करता है। उच्च रक्तचाप के कारण कई लोग तनाव में रहते हैं, ऐसे में यह दवा अधिक प्रभावी होती है।

  • सर्पगंधा के फायदे, उपयोग और स्वास्थ्य लाभ
  • पिप्पली के फायदे, उपयोग और स्वास्थ्य लाभ

हालांकि, मुक्ता वाटी को सरपगंधा और जटामांसी के साथ प्रक्रिया किया जाता है, जो कि एक प्रकार के Antihypertensive जड़ी बूटियों हैं। यहाँ आपकी जानकारी के लिए मुक्ता वाटी के कुछ Health Benefits निम्नलिखित हैं: –

उच्च रक्तचाप: High Blood Pressure दिव्य मुक्ता वटी उच्च रक्त के लिए एक प्रकार का हर्बल इलाज है। उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, गुर्दा विकार या तनाव के कारण होता है। इस दवा में मौजूद जड़ी बूटी है इन सभी घटकों को शांत कर समस्या से छुटकारा दिलाती है।

नींद हराम: Mind Relaxant Herbs की मौजूदगी के कारण मुक्ता वाटी भी निंद पाने में मदद करता है। ब्रह्मी, शंखपुष्पी, अश्वगंधा और मुक्ता-पिस्तत और प्रावल पिस्शी सहित सभी जड़ी-बूटियों मन को आराम दिलाने और अच्छी नींद लाने के लिए बहुत प्रभावी होते हैं।

अवसाद: इसके सभी जड़ी-बूटियों में Antidepressant, Anti-Anxiety और Anti–Stress लक्षण होते हैं। ये जड़ी-बूटियां मन को शांत करती हैं और व्यक्ति को सुखदायक और आराम महसूस करते हैं। इसलिए, यह Depression, चिंता, मानसिक तनाव और आंदोलन के लिए एक अच्छी दवा मानी जाती है।

मानसिक तनाव: मुक्तावटी में मौजूद एंटी-स्ट्रेस और एंटीडिप्रेसेंट वाले जड़ी-बूटियों के तनाव को कम करने में मदद करते हैं। यह मन को शांत प्रभाव करता है और Mental Stress को कम करता है।

पतंजलि मुक्ता वटी उपयोग

पतंजलि मुक्ता वटी टैबलेट (पतंजलि मुक्त वटी एमएस) का प्रयोग निम्नलिखित बीमारियों, स्थितियों और लक्षणों के उपचार, नियंत्रण, रोकथाम और सुधार के लिए किया जाता है:

  1. उच्च रक्त चाप
  2. उच्च रक्त
  3. अनिद्रा
  4. तंत्रिका संबंधी कमज़ोरी
  5. घबराहट
  6. छाती का दर्द
  7. औसत दृष्टिकोण
  8. कैंसर
  9. घाव भरना
  10. चिंता
  11. मिरगी
  12. कमी
  13. थकान
  14. निम्न ऊर्जा का स्तर
  15. बुखार
  16. पेचिश
  17. तनाव
  18. पेट में ऐंठन
  19. उदरशूल
  20. दांतों का दर्द
  21. अतिप्रजन
  22. दमा
  23. श्वसनीशोध
  24. मधुमेह
  25. आमवात
  26. उपदंश
  27. कुर्थी रोग
  28. दिल की कार्यात्मक घबराहट
  29. मूत्राशय और पेट की जलन
  30. दर्द
  31. सूजन
  32. गठिया
  33. घाव
  34. संयमी तनाव
  35. वात-रोग
  36. ऐंठन
  37. प्रत्यूर्जता
  38. मलेरिया
  39. रसौली
  40. न्यूरोडीजेनेरेटिव बीमारी
  41. कामोद्दीपक
  42. मूत्र उत्पादन में कमी
  43. लिूकोडर्मा
  44. कब्ज
  45. खांसी
  46. साँस लेने की क्रिया
  47. फुस्फुस के आवरण में शोथ
  48. यक्ष्मा
  49. सूक्ष्म संक्रमण
  50. अवसाद
  51. मध्य तंत्रिका तंत्र संबंधी विकार
  52. विखंडितमनस्कताग्रस्त
  53. नींद न आना

दिव्य मुक्ता वटी सावधानियां

गर्भावस्था के दौरान मुक्ता वटी को नहीं ली जानी चाहिए। यदि आवश्यक हो तो कृपया अपने चिकित्सक से सलाह आवश्य लें।
इस Medecine को शुरू करने के बाद, रोगी को नियमित रूप से रक्तचाप की जांच करना पड़ता है।

यदि B.P बिना एलोपैथिक दवाओं को लेने से ही Normal हो जाता है तो एलोपैथिक दवाओं को बंद कर दिया जाना चाहिये।

दिव्य मुक्ता वटी के दुष्परिणाम

निर्माता का दावा है कि इसका कोई Side Effects नहीं है, लेकिन यह सच नहीं है। यह Rauwolfia Serpentina के काढ़े के साथ बना होता है, जो कुछ लोगों में नाक की Congestion का कारण बनता है। यह प्रभाव अधिक से तब होता है जब मुक्ता वटी को पानी से लिया जाता है।

हालांकि, इस दवा को गुनगुने दूध के साथ लिए जाने से Congestion की समस्या कम हो सकती हैं। यदि इस दवा को गुनगुने पानी या दूध के साथ लेने से भी Congestion की समस्या उत्पन हो रही हो तो इस दवाई को आगे Continue नहीं करना चाहिए।

दिव्य मुक्ता वटी के कुछ संभावित प्रभावों की सूची निम्नलिखित है:

  • नाक बंद
  • सिरदर्द
  • जलन का अहसास
  • चक्कर आना
  • पेट की ख़राबी
  • मतली
  • सूर्य के प्रति त्वचा की संवेदनशीलता
  • कोई ज्ञात दुष्प्रभाव नहीं
  • पेट में ऐंठन
  • दस्त

निष्कर्ष:

जी हाँ दोस्तों, आपको आज की पोस्ट कैसी लगी, आज हमने आपको बताया दिव्य मुक्ता वटी खुराक और कैसे उपयोग करें और Divya Mukta Vati Kya Hai बहुत आसान शब्दों में, हमने आज की पोस्ट में भी सीखा।

आज मैंने इस पोस्ट में What Is Divya Mukta Vati In Hindi सीखा। आपको इस पोस्ट की जानकारी अपने दोस्तों को भी देनी चाहिए। वे और सोशल मीडिया पर भी यह पोस्ट ज़रूर साझा करें। इसके अलावा, कई लोग इस जानकारी तक पहुंच सकते हैं।

यदि आप हमारी वेबसाइट के नवीनतम अपडेट प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको हमारी Sahu4You वेबसाइट सब्सक्राइब करना होगा।

नई तकनीक के बारे में जानकारी के लिए हमारे दोस्तों, फिर मिलेंगे ऐसे ही नई प्रौद्योगिकी की जानकारी के बारे में, हमारी इस पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद, और अलविदा दोस्तों आपका दिन शुभ हो।

Reading List