Home » Lifestyle » Quotes » Maha Shivratri 2024

Maha Shivratri 2024

2024 में महाशिवरात्रि कब है? जानें सन 2024 में महाशिवरात्रि तिथि, दिनांक और उपयुक्त पूजा शुभ मुहूर्त।

महाशिवरात्रि भगवान शिव को समर्पित एक हिंदू त्योहार है। इस दिन भगवान शिव की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है।

इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की शादी हुई थी। इसलिए, इस दिन भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा करने के लिए शुभ माना जाता है।

2024 में महाशिवरात्रि कब है?


2024 में महाशिवरात्रि 8 मार्च, शुक्रवार को मनाई जाएगी। यह महाशिवरात्रि फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है।

महाशिवरात्रि भगवान शिव को समर्पित एक हिंदू त्योहार है। इस दिन भगवान शिव की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की शादी हुई थी।

इसलिए, इस दिन भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा करने के लिए शुभ माना जाता है। महाशिवरात्रि को शिवरात्रि के नाम से भी जाना जाता है। यह हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाता है।

महाशिवरात्रि के दिन, भक्त शिव मंदिरों में जाते हैं और भगवान शिव की पूजा करते हैं। वे शिवलिंग पर जल, दूध, दही, घी, शहद और शक्कर से अभिषेक करते हैं। वे भगवान शिव को बेलपत्र, धतूरा, भांग और अन्य प्रसाद भी अर्पित करते हैं।

महाशिवरात्रि क्यों मनाई जाती है?

महाशिवरात्रि के दिन, भक्त उपवास भी करते हैं। वे रात भर जागते हैं और भगवान शिव की पूजा करते हैं। वे शिव मंत्रों का जाप करते हैं और शिव भजन गाते हैं।

महाशिवरात्रि एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है। यह भगवान शिव की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त करने का एक अवसर है।

हर साल, महाशिवरात्रि का त्यौहार फाल्गुन माह की कृष्ण चतुर्दशी को बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन को मनाने से जुड़ी कई मान्यताएं हैं, एक पौराणिक कथा के अनुसार, समुद्र मंथन के दौरान वासुकी नाग के मुख से भयंकर जहरीली लपटें निकलीं और इससे समुद्र के पानी में भयानक जहर बन गया। इस संकट को देखकर सभी देवता, ऋषि, ऋषि आदि भगवान शंकर के पास गए और रक्षा की प्रार्थना की। उनकी शंका को स्वीकार करते हुए, भगवान शंकर ने अपनी योगशक्ति से उन्हें अपने गले में धारण कर लिया।

इसी समय, चंद्रमा भी समुद्र के पानी से प्रकट हुआ और देवताओं के आग्रह पर, भगवान शिव ने अपने गले के जहर को शांत करने के लिए चंद्रमा को अपने माथे पर धारण किया। दुनिया की रक्षा के लिए भगवान शिव द्वारा जहर देने की इस घटना के लिए, देवताओं ने उस रात सभी देवताओं को चांदनी में महिमा दी।

तब से इस रात को शिवरात्रि के रूप में जाना जाता है और महाशिवरात्रि का यह त्योहार केवल मानव जाति और सृष्टि के कल्याण के लिए भगवान शिव द्वारा किए गए इस बलिदान की याद में मनाया जाता है, क्योंकि महाशिवरात्रि का यह त्योहार केवल एक परंपरा नहीं बल्कि पूरे ब्रह्मांड का है। की परिभाषा है। यह अज्ञान से ज्ञान की ओर हमारे कदम का प्रतीक है।

कुछ हिंदू धार्मिक पुस्तकों के अनुसार, यह कहा जाता है कि इस तिथि पर सृष्टि शुरू हुई थी और इसी तिथि को, शिव और पार्वती का विवाह हुआ था।

Maha Shivratri Quotes

भोले आयें आपके द्वार
भर दें जीवन में खुशियों की बहार
ना रहे जीवन में कोई भी दुःख
हर ओर फ़ैल जाये सुख ही सुख

बाबा ने जिस पर भी डाली छाया रातो रात उसकी किस्मत की पलट गई छाया वो सब मिला उसे बिन मांगे ही जो कभी किसी ने ना पाया शिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं

‘शिव की महिमा अपरम्पार
“शिव करते सबका उद्धार
उनकी कृपा आप पर सदा बनी रहे और
भोले शंकर आपके जीवन में खुशियाँ ही खुशियाँ भर दे

इतना ना सजा करो ओ मेरे महाकाल आपको नज़र लग जायेगी
और उस मीर्ची की क्या औकात जो आपकी नजर उतार पायेंगी

बाबा की तारीफ करूँ कैसे,
मेरे शब्दों में इतना जोर नहीं,
सारी दुनिया में जाकर ढूंढ लेना,
मेरे महाकाल जैसा कोई और नहीं

ना गिन के दिया ना तोल के दिया महादेव ने जिसे भी दिया दिल खोल के दिया

महा शिवरात्रि शायरी

चीलम खीच के, भांग पीट के,
रमै तन भस्म का चोला तीनों लोक ते थर थर कांपे,
जब तांडव करे मेरा भोला हर हर महादेवजय शिवशंभू

एक बेल पत्रं, एक लोटा जल की धार
करदे सबका उद्धार, जय भोले बम-बम भोले !

भोले की भक्ति में मुझे डूब जाने दो, शिव के चरणों में शीश झुकाने दो
आई है शिवरात्रि मेरे भोले बाबा का दिन आज के दिन मुझे भोले के गीत गाने दो

कहते है सांस लेने से जान आती है, सांस ना लो तो जान जाती है,
कैसे कह दुं कि मै सांसों के सहारे जिन्दा हुं, मेरी सांस तो ॐ नम: शिवाये: बोलने के बाद आती है,

Happy Maha Shivratri Shayari

प्रभु की बनाई कुदरत नहीं देखी, दिलों में छुपी दौलत नहीं देखी,
जो कहते है भगवान नहीं इस दुनिया में, शायद उसने अभी तक उज्जैन में महाकाल की चौखट नहीं देखी…

कृपा जिनकी मेरे ऊपर तेवर भी उन्हीं का वरदान है
शान से जीना सिखाया जिसने “महाँकाल” उनका नाम है!

सूरज जब पलके खोले, मन नमः शिवाय बोले,
मैं इस दुनिया से क्यों डरु, मेरे रक्षक है शिवशंकर भोले

शिव की शक्ति शिव की भक्ति, ख़ुशी की बहार मिले
महादेव की कृपा से आपको जिंदगी के, हर कदम पर सफलता मिले !

शिव की ज्योति से नूर मिलता है, सबके दिलो को सुरूर मिलता हैं
जो भी जाता है भोले के द्वार कुछ न कुछ ज़रूर मिलता हैं

महा शिवरात्रि पर शायरी

महाकाल तेरी कृपा रही तो एक दिन अपना भी मुकाम होगा !!
70 लाख की Audi कार होगी और FRONT शीशे पे महाकाल तेरा नाम होगा

 थोड़ी सी माफी मुझे उधार दे दे ऐ महाकाल, जानता हुँ,
कोशिश चाहे कितनी भी कर लूँ मगर गलतियाँ मुझसे होते ही रहेगी…

सारा जहाँ है जिसकी शरण में नमन है उस शिव जी के चरण में बने उस शिवजी के चरणों की धुल आओ मिल कर चढ़ाये हम श्रद्धा के फूल

भोले की लीला में मुझे डूब जाने दो
शिव के चरणों में शीश झुकाने दो
आज है शिवरात्रि मेरे भोले बाबा का दिन
आज के दिन मुझे भोले के गीत गाने दो

महाशिवरात्रि शायरी इन हिंदी

भोले बाबा के भक्तों के लिए, आज मैं आपके साथ खुशहाल महाशिवरात्रि शायरी इन हिंदी, महाशिवरात्रि शायरी हिंदी में, महाशिवरात्रि पार शायरी हिंदी में, महाशिवरात्रि शायरी हिंदी में, शिवरात्रि शायरी साझा कर रहा हूं। जिसे आप अपने व्हाट्सएप स्टेटस पर साझा कर सकते हैं शायरी, Quotes, इंस्टाग्राम कहानी आदि।

 जिन्दगी एक धुआँ हैं जाने कहा थम जायेगा, कर ले मेरे महाकाल की भक्ति जीवन सफल हो जायेगा…

पी के भांग जमा लो रंग जिन्दगी बीते खुशियों के संग
लेकर नाम शिव भोले का दिल में भर लो शिवरात्रि की उमंग
महा शिवरात्रि की हार्दिक बधाई

महाकाल का नारा लगा के
दुनिया में हम छा गये
दुश्मन भी छुपकर बोले वो
देखो महाकाल के भक्त आ गये

जिनके रोम-रोम में शिव हैं वही विष पिया करते हैं,
जमाना उन्हें क्या जलाएगा,
जो श्रृंगार ही अंगार से किया करते हैं…
जय #भोलेनाथ…

खुशबु आ रही है कहीँ से गांजे और भांग की!
शायद खिड़की खुली रह गयी है मेरे महाकाल के दरबार की!
हर हर महादेव…

जगह-जगह में शिव हैं हर जगह में शिव है है वर्तमान शिव और भविष्य भी शिव हैं!
आप सभी को महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाए

अदभुत भोले तेरी माया
अमरनाथ में डेरा जमाया
नीलकंठ में तेरा साया
तू ही मेरे दिल में समाया

सौराष्ट्रे सोमनाथंच श्री शैले मल्लिकार्जुनम् ।
उज्जयिन्यां महाकालमोंकारममलेश्वरम् ॥
केदारे हिगवत्पृष्ठे डाकिन्यां भीमशंकरम् ।
वाराणस्यांच विश्वेशं त्र्यम्बंक गौतमी तटे ॥
वैद्यनाथं चिताभूमौ नागेशं दारुकावने ।
सेतुबन्धे च रामेशं घृष्णेशंच शिवालये ॥
एतानि ज्योतिर्लिंगानि प्रातरुत्थाय य: पठेत् ।
जन्मान्तर कृत पापं स्मरणेन विनश्यति ॥
महाशिवरात्रि की ढेरों शुभकामनाऐं

मलाई लीलाको सहजमा डुब्न दिनुहोस्,
शिवको खुट्टामा हेड हल्लाउनुहोस्,
म शिवरात्रीको दिन छ,
आज भोलिको गीत दिनुहोस्।

कामदारले यो गर्न सक्दैन, शिव निद्रा
नौ व्यक्तिहरु मा तीन मान्छे, न शिव भन्दा ठूलो

यी कसरी तल छन्?
नयाँ टाउको हावामा आएको छ
हवामा छ कि गंध
हाँ महादेव छानिएको छ

उनीहरूको मृत्युको मृत्यु भयो, चन्द्रको के काम गर्दछ
भक्तको समयमा के हो गलत छ

मलाई भोलिको भक्तिमा डुब्न दिनुहोस्
शिवको खुट्टामा टाउको हल्लाउनुहोस्
मेरो शिवत्रि मेरो न्यौपानेको दिन छ
मलाई भोलो बोलाउनुहोस्

आज मैंने इस पोस्ट में सीखा। आप अपने दोस्तों को भी इस पोस्ट के बारे में सूचित करें। और इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर भी करें। इसके अलावा, कई लोग इस जानकारी तक पहुंच सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *