CCA Full Form

CCA का क्या मतलब है?

CCA का फुलफॉर्म “City Compensatory Allowance” और हिंदी में सीसीए का मतलब “नगर प्रतिपूरक भत्ता” है। CCA संगठनों द्वारा अपने कर्मचारियों को पेश किए जाने वाले मौद्रिक शर्तों में एक प्रकार का भत्ता है जो किसी शहर या मेट्रो में काम और निवास करते हैं। यह मुख्य रूप से मेट्रो या शहरी क्षेत्रों में किए गए अतिरिक्त खर्चों का मुकाबला करने का इरादा रखता है।

CCA Meaning in Hindi
परिभाषा: City Compensatory Allowance
हिंदी अर्थ: नगर प्रतिपूरक भत्ता
श्रेणी: कानून और कानूनी

CCA क्या है – Full Form of CCA Hindi

CCA का फुल फॉर्म “City Compensatory Allowance” है। CCA संगठनों द्वारा अपने कर्मचारियों को पेश किए जाने वाले मौद्रिक शर्तों में एक प्रकार का भत्ता है जो किसी शहर या मेट्रो में काम और निवास करते हैं।

यह मुख्य रूप से मेट्रो या शहरी क्षेत्रों में किए गए अतिरिक्त खर्चों का मुकाबला करने का इरादा रखता है। वर्तमान प्रतिस्पर्धी परिदृश्य में, कंपनियों के लिए अपने अच्छे कर्मचारियों को बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

उच्च वेतन प्राप्त करना कर्मचारियों द्वारा नौकरियों को स्विच करने के पीछे सबसे बड़ा कारण है। यह आम तौर पर एक शहरी क्षेत्र या महानगरीय शहर में एक निश्चित जीवन स्तर को बनाए रखने के लिए किसी व्यक्ति के बहुत हद तक वेतन भाग पर जोर देता है।

इसलिए, एक कंपनी के लिए यह सुनिश्चित करना आवश्यक हो जाता है कि उसके कर्मचारी को उचित रूप से पारिश्रमिक दिया जाए। एक कर्मचारी को मूल वेतन के अलावा विभिन्न प्रकार के भत्तों के पीछे यह भी एक महत्वपूर्ण कारण है।

तो, सिटी कम्पेनसेरी अलाउंस या CCA मुंबई, दिल्ली, बैंगलोर, कोलकाता, जैसे टियर -1 शहर में काम करने वाले / रहने वाले कर्मचारी को दिए जाने वाले भत्तों में से एक है, यह टियर में काम करने वाले या रहने वाले कर्मचारियों के लिए भी प्रदान किया जाता है। साथ ही 2 शहर।

नियोक्ता के विवेक के अनुसार सीसीए पूरी तरह से पेश किया जाता है। इसकी गणना वेतनमान और ग्रेड के अनुसार की जाती है, न कि किसी कर्मचारी के मूल वेतन के अनुसार। इस प्रकार, यह एक शहर से दूसरे शहर के बीच भिन्न होता है।

CCA Defination in Hindi:

क्या आप जानते हैं सीसीए का हिन्दी में क्या मतलब होता है? अगर नहीं तो यह लेख आपको इसकी आसान परिभाषा।

तो दोस्तों क्या आपको What is CCA in Hindi के बारे में सभी Doubts दूर हो गये होंगे? यदि यदि नहीं तो आप इससे मिलते-जुलते लेख हमारी वेबसाइट पर पढ़ सकते है, और अगर आपको नये अपडेट की जानकारी चाहिए तो Sahu4You.com को रोजाना पढ़ें, साथ ही हमसे फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर जरूर जुड़े।