SHO

August 23, 2023 (1y ago)

Full Form of SHO in Police Department

Term

Full Form

SHO

Station House Officer

Category

Police Department

Region

India

SHO का फुल फॉर्म क्या है?

SHO Police का फुल फॉर्म स्टेशन हाउस अफसर पुलिस (Station House Officer) है। इसका हिंदी अर्थ स्टेशन हाउस अधिकारी पुलिस है।

एसएचओ का फुल फॉर्म स्टेशन हाउस ऑफिसर होता है | भारत सरकार के द्वारा मनोनीत ऑफिसर जो Police Station का प्रभारी अधिकारी (In-Charge Officer) होता है उसे SHO भी कहा जाता है।

एसएचओ एक गैर-राजपत्रित (Non-Gazetted) पुलिस अधिकारी है जिसका अवध Sub-Inspector से उपर लेकिन Deputy Commissioner of Police (DCP) के नीचे काम करता है।

Station House Officer के बारे में

एक स्टेशन हाउस ऑफिसर भारत और पाकिस्तान में एक पुलिस स्टेशन का प्रभारी अधिकारी होता है। एसएचओ के पास इंस्पेक्टर या सब-इंस्पेक्टर का पद होता है।

भारत में, कानून एक स्टेशन हाउस अधिकारी को अपराधों की जांच करने की अनुमति देता है। फरवरी 2019 तक, भारत में 15,650 पुलिस स्टेशन हैं।

List of Similar Full Forms

SHO Full Form क्या है और यह किस लिए उपयोग किया जाता है? क्या आप जानते हैं SHO का मतलब क्या है? यह पुलिस विभाग में एक प्रकार का पोस्ट है - यहां पूरी जानकारी पढ़ें।

TBC Full Form

OS Full Form

UPSC Full Form

SHO Police Officer Salary

Assistant Sub Inspector (ASI)

60600 रुपये/माह

Sub Inspector Wireless Operator

27900 – 1,04,400 रुपये/माह

Sub Inspector (Radio Tech)

27900 – 1,04,400 रुपये/माह

Sub Inspector (Storeman Tech)

27900 – 1,04,400 रुपये/माह

Inspector

27900 – 1,04,400 रुपये + ग्रेड/महीना

Assistant Commissioner of Police (ACP)

46800 – 1,17,300 रुपये + ग्रेड/महीना

Deputy Commissioner of Police (DCP)

46800 – 1,17,300 रुपये + ग्रेड/महीना

Indian Police service (IPS)

46800 – 1,17,300 रुपये + ग्रेड/महीना

Special Commissioner of Police

1,12,000 – 2,01,000 रुपये/माह

Deputy Inspector General (DIG)

2,01,000 रुपये/माह

Inspector General (IG)

1,12,000 – 2,01,000 रुपये/माह

Additional Director General (ADG)

2,05,400 रुपये/माह

SHO की पहचान कैसे करें?

SHO ऑफिसर के कंधे में 3 Star और Outer Shoulder में लाल और नीले रंग का Strip Ribbon होता है। भारतीय कानून के तहत, भारत में कानून अपराधों की खोजबीन या जाँच करने का अधिकार है।

एसएचओ कौन होता है

हर एक पुलिस स्टेशन का एक एसएचओ होता है जिसको कम्पनी का मुख्य माना जाता है, हम इसी पर विचार करेंगे की कम्पनी के एसएचओ का क्या काम होता है और एसएचओ कैसे बना जाता है।